गले तक रेत भरी हुई
मछलियाँ आसमान पर
टकटकी लगाये प्यास से
तड़प रही हैं

कुपोषण की शिकार
नदी दम तोड़ने की कगार पर है

सभ्यता के
आख़िरी दिनों का कचरा
जमा हो रहा है समुंदर में

चिड़ियाँ इमारतों की नींव में
चोंच मारकर तलाश कर रही हैं
अपने घोंसले

कंठस्थ कर आये बच्चे
कक्षा में लिख रहे हैं
‘खेल के मैदान’ विषय पर
एक निबन्ध

और तुमने कहा
बढ़ रहे हैं क़दम हमारे
एक विकसित युग की ओर
तुम तैयारी में हो
चाँद पर घर बनाने की

हे ईश्वर
भाषा में बचा कर रखना
‘प्रार्थना’ शब्द का अनुवाद!

Previous articleआज का पाठ है
Next articleरोज़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here