प्राची की साँझ
और पश्चिम की रात
इनकी वयःसंधि का
जश्न है आज

मज़ारों पर चिराग बालने वाले हाथ
(जो शायद किसी रुह के ही हों)
ठहर जाएँ।

नदियों पर दिये बहाने वाले हाथ
(जो शायद किसी नववधू के ही हों)
ठहर जाएँ।

और खानों में लालटेनें ले जाने वाले हाथ
(जो शायद किसी मज़दूर के ही हों)
ठहर जाएँ।

सभी
रोशनी देने वाले हाथ मिलें
और कसकर बाँध लें एक-दूसरे को आज
ताकि यहीं से मारना शुरू करें दस्तकें
विश्व के अंधेरे कपाटों पर

मिले-जुले
कसकर बंधे
रोशन हाथ।

Previous articleमोर बिचारे
Next articleदिलोदिमाग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here