Tag: Kashmir

Alok Kumar Mishra

‘क’ से ‘कमल’, ‘क’ से ‘कश्मीर’

'क' से 'कमल' वाले इस देश में 'क' से 'कश्मीर' भी हो सकता है पर उसके लिए आँखों को थोड़ा सजल करना होगा हृदय में उतरना होगा दिमाग़ की परतों...

कश्मीरी बकरी

'Kashmiri Bakri', a nazm by Usama Hameedकितनी प्यारी बकरी इसका रंग सफ़ेद प्यारी-प्यारी बकरी इसका नाम परीफुदक-फुदककर चलती है ये बकरी हरी-हरी घास है इसको सबसे प्यारी इठलाती बलखाती...
Usha Dashora

वो लड़का कश्मीर था

'Wo Ladka Kashmir Tha', a poem by Usha Dashora1पहले अकेले चार सिगरेट फूँकीं आँखों में लाल डोरे पकड़े आस-पास वाले पड़ोस की बाड़ियों में चूहे मारने की दवा...

पहाड़ों पर जमी बर्फ़ तप रही है

'Pahadon Par Jami Barf Tap Rahi Hai', a nazm by Usama Hameedजब ठण्ड बढ़ती है पहाड़ों पर बर्फ़ गिरती है, मुसल्ले और टोपियाँ बर्फ़ सी नमाज़ियों के साथ ऐंठ जाती...

हम मिलते रहेंगे

जैसा कि तय था हम मिलते हैं उतनी ही बेक़रारी से जैसे तुम आये हो किसी दूसरे ही नक्षत्र से अपने हमवतन दोस्तों के पासअपने गर्म कपड़ों,...

कश्मीर के बच्चे के नाम

वो खेलता गर्मियों में यहाँ घास के दूर तक फ़ैले मैदान में सर्दियों में वो बनाता बर्फ़ के गोले और उछाल देता सूरज की ओरमाँ की काँगड़ी...

STAY CONNECTED

42,092FansLike
20,941FollowersFollow
29,148FollowersFollow
1,920SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Daisy Rockwell - Geetanjali Shree

डेज़ी रॉकवेल के इंटरव्यू के अंश

लेखक ने अपनी बात कहने के लिए अपनी भाषा रची है, इसलिए इसका अनुवाद करने के लिए आपको भी अपनी भाषा गढ़नी होगी। —डेज़ी...
Kalam Ka Sipahi - Premchand Jeevani - Amrit Rai

पुस्तक अंश: प्रेमचंद : कलम का सिपाही

भारत के महान साहित्यकार, हिन्दी लेखक और उर्दू उपन्यासकार प्रेमचंद किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रेमचंद ने अपने जीवन काल में कई रचनाएँ...
Priya Sarukkai Chabria

प्रिया सारुकाय छाबड़िया की कविताएँ

प्रिया सारुकाय छाबड़िया एक पुरस्कृत कवयित्री, लेखिका और अनुवादक हैं। इनके चार कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें नवीनतम 'सिंग ऑफ़ लाइफ़ रिवीज़निंग...
aadhe adhoore mohan rakesh

आधे-अधूरे : एक सम्पूर्ण नाटक

आधे-अधूरे: एक सम्पूर्ण नाटक समीक्षा: अनूप कुमार मोहन राकेश (1925-1972) ने तीन नाटकों की रचना की है— 'आषाढ़ का एक दिन' (1958), 'लहरों के राजहंस' (1963)...
Kavita Mein Banaras

‘कविता में बनारस’ से कविताएँ

'कविता में बनारस' संग्रह में उन कविताओं को इकट्ठा किया गया है, जो अलग-अलग भाषाओं के कवियों ने अपने-अपने समय के बनारस को देख...
Kailash Manhar

डरावना स्वप्न

लम्बी कविता: डरावना स्वप्न (एक)हर रात वही डरावना सपना लगभग तीन से चार बजे के बीच आता है और रोम-रोम कँपा जाता है बहुत घबराहट के साथ पसीने-पसीने हुआ-सा...
Pervin Saket

परवीन साकेत की कविताएँ

परवीन साकेत उपन्यास 'उर्मिला' और कविता संग्रह 'ए टिंज ऑफ़ टर्मरिक' की लेखिका हैं। परवीन 'द बॉम्बे लिटरेरी मैगज़ीन' में पोएट्री एडिटर हैं और...
Shivangi

डिस्फ़ोरिया

हम पृथ्वी की शुरुआत से स्त्री हैं सरकारें बदलती रहीं तख़्त पलटते रहे हम स्त्री रहे विचारक आए विचारक गए हम स्त्री रहे सैंकड़ों सावन आए अपने साथ हर दूषित चीज़ बहा...
Aankhein - Sara Shagufta

पहला हर्फ़

पाकिस्तानी शायरा सारा शगुफ़्ता की नज़्मों का पहला संग्रह 'आँखें' उनकी मृत्यु के बाद सन् 1985 में प्रकाशित हुआ था। हाल ही में इसी...
Magnus Grehn

स्वीडिश कवि मैगनस ग्रेन की कविताएँ

अनुवाद: पंखुरी सिन्हा आंधी के बाद सेंट फ़ेगंस जाने की राह में एम 4 पर हमारी गाड़ी दौड़ गई वेल्स के बीचों-बीच सेंट फ़ेगंस की ओर आंधी के बाद...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;)