‘Kashmiri Bakri’, a nazm by Usama Hameed

कितनी प्यारी बकरी
इसका रंग सफ़ेद
प्यारी-प्यारी बकरी
इसका नाम परी

फुदक-फुदककर चलती है ये बकरी
हरी-हरी घास है इसको सबसे प्यारी
इठलाती बलखाती मचलती उचकती
बच्चों मे खेलती रलती मिलती बकरी

इसका नाम परी
प्यारी-प्यारी बकरी
इसके पैर सुडौल
इसकी जिल्द नरम
इसका लम्स गरम
मेरी बकरी

मेरी बकरी
इसका नाम परी
ये लेटी मेरी गोद में
इसके सर पर छेद
सरकारी गोली

प्यारी-प्यारी बकरी
इसका नाम परी
मेरी बकरी
कश्मीरी बकरी।

यह भी पढ़ें: उसामा हमीद की नज़्म ‘द मैन एंड द ट्री’

Recommended Book: