Tag: Vijay Sharma

Vijay Sharma

क़ब्ल-अज़-तारीख़

सुबह से माँ के घुटनों का दर्द तेज़ था। पिछली रात देसी बाम, गरम पानी और तेल का कोई ख़ास असर नहीं हुआ। इधर...
Vijay Sharma

घोष बाबू और उनकी माँ

"हम यहाँ से निकलकर कहाँ जाएँगे?" — शिल्पा ने अनिमेष के कंधे पर सिर रक्खे कहा।"जहाँ क़िस्मत ले जाए!" — अनिमेष की आवाज़ में...
Vijay Sharma

अधूरी वसीयत

खैर! आधी रात को हम तीनों ने पापा की रूह को बुलाना तय किया। हमने इसके लिए अपना बेडरूम इस्तेमाल करने की ठानी, जिसकी वजह ये थी कि हुकूमत कम अज़ कम वहाँ हमें अपनी तरह से जीने की आज़ादी दे रही है।हमने जैसे ही ओइजा बोर्ड पर कारगुजारी शुरू की कि बहुत जल्द घर के परदे हिलने लगे, हवाएँ चलने लगीं, जैसे कि किसी फ्लॉप बॉलीवुड फिल्म का मंज़र हो। जब सब शांत हुआ तो बीवी ने बहुत धीमी आवाज़ में पूछा- "आप सब यहाँ कितने हैं?" "मैं अकेली ही हूँ मेम साहेब.. सब काम अकेली ही कर देगी मैं।" शायद कोई ग़लत रूह कमरे में आ गई थी।
Vijay Sharma

मुहब्बत की दलील

'Muhabbat Ki Daleel', a poem by Vijay Sharmaक़ैस ने इश्क़ किया पर शायरी नहीं उसने लैला की बातें हवाओं से, बगूलों से, दरख़्तों से और बेलों से,...
Vijay Sharma

हमने ज़ख्म ख़ुद बनाया

मुआफ़ करने की रस्म ख़त्म हुई तो मुआफ़ी माँगने का सिलसिला भी फिर हमें अपनी दोस्ती की बुनियाद बचाने के लिये इलज़ाम की बुनियाद डालनी पड़ी जिसपर क़ायम हुए दलाइल, अदालत, गवाह...
Vijay Sharma

दुःख का एक महल 

दुःख का एक महल एक आलिशान महल जिसमें मैं कभी भिश्ती हूँ तो कभी दरवान मैंने आज तक महल के राजा को नहीं देखा केवल उसके आगे पानी भरा...
Vijay Sharma

मेरे मरने के बाद

"दो नाम कभी भी अक्सर एक साथ इस सबब से आते हैं कि वो मिसाल बन सकें.. मसलन लैला-मजनूँ, शंकर-जयकिशन, चाय-पकौड़ा, हिन्दू-मुस्लिम... हिन्दू-मुस्लिम वाकई, इन दोनों कौमों ने एक दूसरे की शान में ऐसे-ऐसे कारनामे किये कि दुनिया के बड़े से बड़े फ़लसफ़े फ़ेल हो गये और मिसाल बन गये. कैसे मिसाल बने ये आज भी कभी कभार नज़र से गुज़र ही जाता है..."
Vijay Sharma

वो

"कभी वह सोचता कि दुनिया की सारी लड़कियाँ उसकी बीवियाँ हैं और वह हर एक को छोड़ चुका है। एक दफ़ा एक कब्रिस्तान में उसने छुप कर किसी जवान लड़की को दफ़न होते देखा था। लड़की के हाथ पर कटे का निशान था। वह लड़की उसे आज तक की सबसे ख़ूबसूरत लड़की लगी। उसे यक़ीन हो गया कि उसकी महबूबा मर चुकी है। वह अक्सर उस लड़की की क़ब्र पर जाया करता। पर जल्द ही उसी क़ब्र के आसपास एक अधेड़ उम्र के आदमी को दफ़न होते देखा।  इसके बाद उसका मन इस बात से मायूस हो गया कि ज़मीन के नीचे ये आदमी उसकी महबूबा को छुएगा।"

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,279FollowersFollow
1,590SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Jeete Jee Allahabad - Mamta Kalia

किताब अंश: ‘जीते जी इलाहाबाद’

'जीते जी इलाहाबाद' ममता कालिया की एक संस्‍मरणात्‍मक कृ‌ति है, जिसमें हमें अनेक उन लोगों के शब्दचित्र मिलते हैं जिनके बिना आधुनिक हिन्दी साहित्य...
Tumhari Kshay - Rahul Sankrityayan

राहुल सांकृत्यायन – ‘तुम्हारी क्षय’

राहुल सांकृत्यायन की किताब 'तुम्हारी क्षय' से उद्धरण | Quotes from 'Tumhari Kshya', a book by Rahul Sankrityayan चयन: पुनीत कुसुम   "उन्हीं के ख़ून से मोटी...
Rahul Sankrityayan

तुम्हारी जोंकों की क्षय

जोंकें? — जो अपनी परवरिश के लिए धरती पर मेहनत का सहारा नहीं लेतीं। वे दूसरों के अर्जित ख़ून पर गुज़र करती हैं। मानुषी...
Gaurav Bharti

कविताएँ: सितम्बर 2021

हादसा मेरे साथ प्रेम कम उसकी स्मृतियाँ ज़्यादा रहींप्रेम जिसका अन्त मुझ पर एक हादसे की तरह बीता मुझे उस हादसे पर भी प्रेम आता है। गंध मैं तुम्हें याद करता हूँ दुनिया...
Ravit Yadav

कुछ दूर चलते ही

घर में आख़िरी रात। समान लगाने की प्रक्रिया में भावनाओं को रोकना एक मुश्किल काम है। भावनाएँ जो इतने दिन दिल्ली में रहने से...
Leaves, Leaf, Difference, Different but same

व्याकरण

मेरे शरीर का व्याकरण अलग है सारे वाक्य तितर-बितर हैं पूर्ण-विराम असमय आ जाता है भूत वर्तमान भविष्य सब एक से है जहाँ संधि की ज़रूरत है वहाँ विच्छेद...
Ek Desh Barah Duniya - Shirish Khare

‘एक देश बारह दुनिया’ : हाशिए पर छूटे भारत की तस्वीर

पुस्तक: 'एक देश बारह दुनिया : हाशिए पर छूटे भारत की तस्वीर' लेखक: शिरीष खरे प्रकाशक: राजपाल एण्ड संससमीक्षा/टिप्पणी: आलोक कुमार मिश्रासंविधान में लिखा है— 'इंडिया...
Pramod Ranjan - Pankaj Pushkar

भाषायी असमानता को हमारे शिक्षण-संस्थान जन्म दे रहे हैं

'भाषायी असमानता को हमारे शिक्षण-संस्थान जन्म दे रहे हैं' : प्रमोद रंजन से पंकज पुष्कर की बातचीत पंकज पुष्कर: जन्म से लेकर अब तक आपकी...
Ek Bata Do - novel by Sujata

समीक्षा: ‘एक बटा दो’

किताब: 'एक बटा दो' लेखिका: सुजाता प्रकाशक: राजकमल प्रकाशनसमीक्षा/टिप्पणी: महेश कुमार स्त्री निर्मिति की विभिन्न चरणों की पड़ताल करके उससे बाहर निकलने का स्त्रीवादी विश्लेषण है 'एक...
Vijendra

कवि

मेरे लिए कविता रचने का कोई ख़ास क्षण नहीं। मैं कोई गौरय्या नहीं जो सूर्योदय और सूर्यास्त पर घौंसले के लिए चहचहाना शुरू कर दूँ।समय ही ऐसा है कि मैं...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)