तू अगर सैर को निकले तो उजाला हो जाए
सुरमई शाल का डाले हुए माथे पे सिरा
बाल खोले हुए संदल का लगाए टीका
यूँ जो हँसती हुई तू सुब्ह को आ जाए ज़रा
बाग़-ए-कश्मीर के फूलों को अचम्भा हो जाए
तू अगर सैर को निकले तो उजाला हो जाए

ले के अंगड़ाई जो तू घाट पे बदले पहलू
चलता फिरता नज़र आ जाए नदी पर जादू
झुक के मुँह अपना जो गंगा में ज़रा देख ले तू
निथरे पानी का मज़ा और भी मीठा हो जाए
तू अगर सैर को निकले तो उजाला हो जाए

सुब्ह के रंग ने बख़्शा है वो मुखड़ा तुझ को
शाम की छाँव ने सौंपा है वो जोड़ा तुझ को
कि कभी पास से देखे जो हिमाला तुझ को
इस तिरे क़द की क़सम और भी ऊँचा हो जाए
तू अगर सैर को निकले तो उजाला हो जाए

Previous articleएस्केप
Next articleचाँदनी रात में नौका विहार
जोश मलीहाबादी
जोश मलीहाबादी (५ दिसंबर, १८९८ – २२ फरवरी, १९८२) लखनऊ से उर्दु के प्रख्यात शायर रहे हैं। उनको साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here