मैं जो हूँ
मुझे वही रहना चाहिए।

यानी
वन का वृक्ष
खेत की मेंड़
नदी की लहर
दूर का गीत
व्यतीत
वर्तमान में
उपस्थित भविष्य में

मैं जो हूँ
मुझे वही रहना चाहिए

तेज़ गर्मी
मूसलाधार वर्षा
कड़ाके की सर्दी
ख़ून की लाली
दूब का हरापन
फूल की जर्दी

मैं जो हूँ
मुझे वही रहना चाहिए

मुझे अपना
होना
ठीक-ठीक सहना चाहिए

तपना चाहिए
अगर लोहा हूँ
तो हल बनने के लिए

बीज हूँ
तो गड़ना चाहिए
फल बनने के लिए

मैं जो हूँ
मुझे वही बनना चाहिए

धारा हूँ अन्तःसलिला
तो मुझे कुएँ के रूप में
खनना चाहिए
ठीक ज़रूरतमन्द हाथों से

गान फैलाना चाहिए मुझे
अगर मैं आसमान हूँ

मगर मैं
कब से ऐसा नहीं
कर रहा हूँ

जो हूँ
वही होने से डर रहा हूँ!

भवानी प्रसाद मिश्र की कविता 'मेरा अपनापन'

Book by Bhawani Prasad Mishra:

Previous articleस्नेह मेरे पास है
Next articleटिड्डी
भवानी प्रसाद मिश्र
भवानी प्रसाद मिश्र (जन्म: २९ मार्च १९१४ - मृत्यु: २० फ़रवरी १९८५) हिन्दी के प्रसिद्ध कवि तथा गांधीवादी विचारक थे। वे दूसरे तार-सप्तक के एक प्रमुख कवि हैं। गाँधीवाद की स्वच्छता, पावनता और नैतिकता का प्रभाव तथा उसकी झलक उनकी कविताओं में साफ़ देखी जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here