औरत ने जनम दिया मर्दों को, मर्दों ने उसे बाज़ार दिया
जब जी चाहा मसला कुचला, जब जी चाहा धुत्कार दिया
तुलती है कहीं दीनारों में, बिकती है कहीं बाज़ारों में
नंगी नचवाई जाती है, अय्याशों के दरबारों में
ये वो बे-इज़्ज़त चीज़ है जो बट जाती है इज़्ज़त-दारों में
औरत ने जनम दिया मर्दों को, मर्दों ने उसे बाज़ार दिया

मर्दों के लिए हर ज़ुल्म रवा, औरत के लिए रोना भी ख़ता
मर्दों के लिए हर ऐश का हक़, औरत के लिए जीना भी सज़ा
मर्दों के लिए लाखों सेजें, औरत के लिए बस एक चिता
औरत ने जनम दिया मर्दों को, मर्दों ने उसे बाज़ार दिया

जिन सीनों ने इन को दूध दिया, उन सीनों को बेवपार किया
जिस कोख में इन का जिस्म ढला, उस कोख का कारोबार किया
जिस तन से उगे कोंपल बनकर, उस तन को ज़लील-ओ-ख़्वार किया
संसार की हर इक बे-शर्मी ग़ुर्बत की गोद में पलती है
चकलों ही में आ कर रुकती है, फ़ाक़ों से जो राह निकलती है
मर्दों की हवस है जो अक्सर औरत के पाप में ढलती है
औरत ने जनम दिया मर्दों को, मर्दों ने उसे बाज़ार दिया

औरत संसार की क़िस्मत है, फिर भी तक़दीर की हेटी है
अवतार पयम्बर जन्नती है, फिर भी शैतान की बेटी है
ये वो बद-क़िस्मत माँ है जो बेटों की सेज पे लेटी है
औरत ने जनम दिया मर्दों को, मर्दों ने उसे बाज़ार दिया…

यह भी पढ़ें: ‘मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे’

Recommended Book:

Previous articleमैं मार दी जाऊँगी
Next articleगुड्डे का जन्मदिन
साहिर लुधियानवी
साहिर लुधियानवी (8 मार्च 1921 - 25 अक्टूबर 1980) एक प्रसिद्ध शायर तथा गीतकार थे। इनका जन्म लुधियाना में हुआ था और लाहौर (चार उर्दू पत्रिकाओं का सम्पादन, सन् 1948 तक) तथा बंबई (1949 के बाद) इनकी कर्मभूमि रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here