भरे जंगल के बीचो बीच
न कोई आया गया जहाँ,
चलो हम दोनों चलें वहाँ।

जहाँ दिन-भर महुआ पर झूल
रात को चू पड़ते हैं फूल,
बाँस के झुरमुट में चुपचाप
जहाँ सोए नदियों के कूल

हरे जंगल के बीचो बीच
न कोई आया गया जहाँ,
चलो हम दोनों चलें वहाँ।

विहंग मृग का ही वहाँ निवास
जहाँ अपने धरती-आकाश,
प्रकृति का हो हर कोई दास
न हो पर इसका कुछ आभास

खरे जंगल के बीचो बीच,
न कोई आया गया जहाँ,
चलो हम दोनों चलें वहाँ।

Previous articleआँगन की धूप
Next articleखोया हुआ जंगल
नरेन्द्र शर्मा
पण्डित नरेन्द्र शर्मा (२८ फरवरी १९१३–११ फरवरी १९८९) हिन्दी के लेखक, कवि तथा गीतकार थे। उन्होने हिन्दी फिल्मों (जैसे सत्यम शिवम सुन्दरम) के लिये गीत भी लिखे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here