पहला भाग

पहला बयान
दूसरा बयान
तीसरा बयान
चौथा बयान
पाँचवा बयान
छठवाँ बयान
सातवाँ बयान
आठवाँ बयान
नौवाँ बयान
दसवाँ बयान
ग्यारहवाँ बयान
बारहवाँ बयान
तेरहवाँ बयान
चौदहवाँ बयान
पन्द्रहवाँ बयान
सौलहवाँ बयान
सत्रहवाँ बयान
अठारहवाँ बयान
उन्नीसवाँ बयान
बीसवाँ बयान
इक्कीसवाँ बयान
बाईसवाँ बयान
तेईसवाँ बयान

 

दूसरा भाग

पहला व दूसरा बयान
तीसरा बयान
चौथा बयान
पाँचवाँ बयान
छठवाँ बयान

आगे के अध्याय और बयान जल्दी ही…

Previous articleपरिपूर्णता प्रेम की
Next articleवक़्त की मीनार पर
देवकी नन्दन खत्री
बाबू देवकीनन्दन खत्री (29 जून 1861 - 1 अगस्त 1913) हिंदी के प्रथम तिलिस्मी लेखक थे। उन्होने चंद्रकांता, चंद्रकांता संतति, काजर की कोठरी, नरेंद्र-मोहिनी, कुसुम कुमारी, वीरेंद्र वीर, गुप्त गोदना, कटोरा भर, भूतनाथ जैसी रचनाएं की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here