डेली पैसेंजर की दिनचर्या

‘Daily Passenger Ki Dincharya’, a poem by Nirmal Gupt

एक आदमी सकपकाया-सा
लौटता है अपने घर
तब वह तय करता है केवल
एक यातना शिविर से
(जिसे वह दफ़्तर कहता है)
दूसरे यातना शिविर
(जिसे वह घर कहता है)
तक की यात्रा
और एक रेलगाड़ी
सम्पूर्ण लौह-चेतना के साथ
दौड़ती रहती है
उसके मानस पटल पर।

वह जब खाना खा रहा होता है
चुपचाप
सिर झुकाए किसी अपराधी-सा
तब स्मृति में आ खड़ा होता है
चपरासी
अफ़सर का पत्र लिए
दफ़्तर विलम्ब से आने का
स्पष्टीकरण माँगता।

वह जब बिस्तर पर ढेर हो
गठरी-सा लुढ़कता है
तब उसकी बन्द पलकों के
सामने
निरीह पत्नी का आशंकित चेहरा,
जवानी की दहलीज़ पर
ठिठकी खड़ी पुत्री
और निरन्तर उद्दण्ड होते
पुत्र का चित्र सरकने लगता है।

तब वह कभी देना चाहता है
पत्नी को विश्वास भरा
स्नेहिल स्पर्श,
कभी पढ़ लेना चाहता है
बिटिया की चंचल आँखों में
ठहरी महत्वाकांक्षा की पाती,
और कभी बता देना चाहता है
अपने बेटे को
दुनियादार बनने के सभी गुर,
पर वह कर कुछ भी नहीं पाता
थकान से सराबोर शरीर
बिस्तर पर फड़फड़ाता है रात भर
और फिर घड़ी के अलार्म के साथ
गठरी खुलने लगती है यंत्रवत

धीरे-धीरे तब्दील हो जाती है
एक ज़िंदा आदमी में
और कुछ ही देर बाद
जब एक रेलगाड़ी सरकती है
लोहे की पटरियों पर
आदमी के मानस पटल पर ठहरी
रेलगाड़ी
उसके साथ हो लेती है

दो गतियाँ एकाकार होती हैं
और उनके बीच से
एक आदमी फ़रार होकर
जा पहुँचता है उसी
यातना शिविर में
जहाँ से वह लौटा था
कल साँझ ढले।

यह भी पढ़ें:

निर्मल गुप्त की कविता ‘खचाखच भरी रेलगाड़ी’
इलाचंद्र जोशी की कहानी ‘रेल की रात’

Book by Nirmal Gupt: