‘Humare Dil Sulagte Hain’, a poem by Shamsher Bahadur Singh

[अल्‍जीरियाई वीरों को समर्पित]

लगी हो आग जंगल में कहीं जैसे,
हमारे दिल सुलगते हैं।

हमारी शाम की बातें
लिये होती हैं अक्‍सर जलजले महशर के, और जब
भूख लगती है हमें तब इंक़लाब आता है।

हम नंगे बदन रहते हैं झुलसे घोंसलों में,
बादलों-सा
शोर तूफ़ानों का उठता है –
डिवीजन के डिवीजन मार्च करते हैं,
नये बमबार हमको ढूँढते फिरते हैं…

सरकारें पलटती हैं जहाँ हम दर्द से करवट बदलते हैं!

हमारे अपने नेता भूल जाते हैं हमें जब,
भूल जाता है जमाना भी उन्‍हें, हम भूल जाते हैं उन्‍हें ख़ुद।

और तब
इंक़लाब आता है उनके दौर को गुम करने।

यह भी पढ़ें: शमशेर बहादुर सिंह की कविता ‘तुमने मुझे’

Book by Shamsher Bahadur Singh:

Previous articleब्रह्मराक्षस का शिष्य
Next articleपत्नियाँ और प्रेमिकाएँ
शमशेर बहादुर सिंह
शमशेर बहादुर सिंह 13 जनवरी 1911- 12 मई 1993 आधुनिक हिंदी कविता की प्रगतिशील त्रयी के एक स्तंभ हैं। हिंदी कविता में अनूठे माँसल एंद्रीए बिंबों के रचयिता शमशेर आजीवन प्रगतिवादी विचारधारा से जुड़े रहे। तार सप्तक से शुरुआत कर चुका भी नहीं हूँ मैं के लिए साहित्य अकादमी सम्मान पाने वाले शमशेर ने कविता के अलावा डायरी लिखी और हिंदी उर्दू शब्दकोश का संपादन भी किया।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here