हमारे दिल सुलगते हैं

‘Humare Dil Sulagte Hain’, a poem by Shamsher Bahadur Singh

[अल्‍जीरियाई वीरों को समर्पित]

लगी हो आग जंगल में कहीं जैसे,
हमारे दिल सुलगते हैं।

हमारी शाम की बातें
लिये होती हैं अक्‍सर जलजले महशर के, और जब
भूख लगती है हमें तब इंक़लाब आता है।

हम नंगे बदन रहते हैं झुलसे घोंसलों में,
बादलों-सा
शोर तूफ़ानों का उठता है –
डिवीजन के डिवीजन मार्च करते हैं,
नये बमबार हमको ढूँढते फिरते हैं…

सरकारें पलटती हैं जहाँ हम दर्द से करवट बदलते हैं!

हमारे अपने नेता भूल जाते हैं हमें जब,
भूल जाता है जमाना भी उन्‍हें, हम भूल जाते हैं उन्‍हें ख़ुद।

और तब
इंक़लाब आता है उनके दौर को गुम करने।

यह भी पढ़ें: शमशेर बहादुर सिंह की कविता ‘तुमने मुझे’

Book by Shamsher Bahadur Singh: