जिस दिन मैंने गाँव को अलविदा कहा
उस दिन मेरा बेटा
खेल रहा था
केदारनाथ सिंह की कविताओं के साथ
और कविताएँ
गालों पर चिकोटियाँ काटती हुईं
तितली की तरह चूम रही थीं उसकी हथेलियाँ

जिस दिन मैंने गाँव को अलविदा कहा
उस दिन मेरी अंधी माँ की आँखें
सजल हो गई थीं
मेरे सिर पर हौले-से हाथ फेरती
कुंकुम का तिलक लगाती हुई
ख़ुश रहना, लम्बी उम्र का दिया था आशीर्वाद

जिस दिन मैंने गाँव को अलविदा कहा
उस दिन तिल-तिल बड़ी होती बहन
मेरे हाथ में रख दी थी
सतरंगी राखी
और अगले बरस ब्याहने की चिन्ताएँ

जिस दिन मैंने गाँव को अलविदा कहा
उस दिन बापू के छूए थे पाँव
और उन्होंने
मेरी पीठ थपथपाते
खाँसते हुए कहा-
घर का सारा भार अब तेरे कंधों पर है

जिस दिन मैंने गाँव को अलविदा कहा
उस दिन हँसते-खिलते
गुवाड़, धोरों और झोहड़ियों नें
मेरी जेब में रख दी थीं
अपनी सारी कलाएँ, लोकगीत, कथाएँ

जिस दिन मैंने गाँव को अलविदा कहा
उस दिन मेरे थैले में थे
सरसों के फूल, गेहूँ की बालियाँ
थोड़ी-सी मिंमझर
तीन जोड़ी कपड़े
दो जोड़ी अंडरवियर, बनियान
तीन बीड़ी के पैकेट और एक किताब

अब मेरे पास शहर में बचे हैं
एक जोड़ी कपड़े
लीरोलीर सपनें
और फटी किताब के कुछेक पन्ने

मेरे प्यारे गाँव! मैं अब
शहर की रची हुई साज़िशों के हत्थे चढ़ गया हूँ
फिर भी भीतर बचा रखी है घास की तरह आस।

Previous articleप्रभात की कविताएँ
Next articleअभिशप्त
संदीप निर्भय
गाँव- पूनरासर, बीकानेर (राजस्थान) | प्रकाशन- हम लोग (राजस्थान पत्रिका), कादम्बिनी, हस्ताक्षर वेब पत्रिका, राष्ट्रीय मयूर, अमर उजाला, भारत मंथन, प्रभात केसरी, लीलटांस, राजस्थली, बीणजारो, दैनिक युगपक्ष आदि पत्र-पत्रिकाओं में हिन्दी व राजस्थानी कविताएँ प्रकाशित। हाल ही में बोधि प्रकाशन जयपुर से 'धोरे पर खड़ी साँवली लड़की' कविता संग्रह आया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here