जिस्म और लिबास का जो रिश्ता होता है
वही रिश्ता होता है सच और झूठ का
ढकना, और चुभना

हमला जिस्म में नहीं, हमला लिबास में है
अदावत सच में नहीं, अदावत झूठी है

तुम्हारे लिबास के रंग
नहीं दिखाते जिस्म के दाग़
नहीं ढकते अख़लाक़;
एक झूठ न बोल कर
नहीं हो जाता सच नंगा
नहीं बन जाते तुम देवता…