ठण्डे कमरों में बैठकर
पसीने पर लिखना कविता
ठीक वैसा ही है
जैसे राजधानी में उगाना फ़सल
कोरे काग़ज़ों पर।

फ़सल हो या कविता
पसीने की पहचान हैं दोनों ही।

बिना पसीने की फ़सल
या कविता
बेमानी है
आदमी के विरुद्ध
आदमी का षडयन्त्र—
अंधे गहरे समन्दर सरीखा
जिसकी तलहटी में
असंख्‍य हाथ
नाख़ूनों को तेज़ कर रहे हैं
पोंछ रहे हैं उँगलियों पर लगे
ताज़ा रक्‍त के धब्‍बे।

धब्‍बे, जिनका स्‍वर नहीं पहुँचता
वातानुकूलित कमरों तक
और न ही पहुँच पाती है
कविता ही
जो सुना सके पसीने का महाकाव्‍य
जिसे हरिया लिखता है
चिलचिलाती दुपहर में
धरती के सीने पर
फ़सल की शक्‍ल में।

ओमप्रकाश वाल्मीकि की कविता 'खेत उदास हैं'

ओमप्रकाश वाल्मीकि की किताब यहाँ ख़रीदें:

Previous articleआओ रानी
Next articleआज बात करते हैं ‘तख़ल्लुस’ की..
ओमप्रकाश वाल्मीकि
ओमप्रकाश वाल्मीकि (30 जून 1950 - 17 नवम्बर 2013) वर्तमान दलित साहित्य के प्रतिनिधि रचनाकारों में से एक हैं। हिंदी में दलित साहित्य के विकास में ओमप्रकाश वाल्मीकि की महत्त्वपूर्ण भूमिका रही है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here