‘Khuda Ka Ghar Nahi Koi’, a nazm by Nida Fazli

ख़ुदा का घर नहीं कोई
बहुत पहले हमारे गाँव के अक्सर बुज़ुर्गों ने
उसे देखा था
पूजा था
यहीं था वो
यहीं बच्चों की आँखों में
लहकते सब्ज़ पेड़ों में
वो रहता था
हवाओं में महकता था
नदी के साथ बहता था
हमारे पास वो आँखें कहाँ हैं
जो पहाड़ी पर
चमकती
बोलती
आवाज़ को देखें
हमारे कान बहरे हैं
हमारी रूह अंधी है
हमारे वास्ते
अब फूल खिलते हैं
न कोंपल गुनगुनाती है
न ख़ामोशी अकेले में सुनहरे गीत गाती है
हमारा अहद!
माँ के पेट से अंधा है, बहरा है
हमारे आगे पीछे
मौत का तारीक पहरा है!

यह भी पढ़ें: निदा फ़ाज़ली की नज़्म ‘छोटी सी शॉपिंग’

Author’s Book:

Previous articleजब कड़ी मारें पड़ीं
Next articleहे गाँव, तुझे मैं छोड़ चला
निदा फ़ाज़ली
मुक़्तदा हसन निदा फ़ाज़ली या मात्र 'निदा फ़ाज़ली' हिन्दी और उर्दू के मशहूर शायर थे। इनका जन्म १२ अक्टूबर १९३८ को ग्वालियर में तथा निधन ०८ फ़रवरी २०१६ को मुम्बई में हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here