Tag: Anuradha Annanya

Miya Poetry

लिखो, मैं मियाँ हूँ!

'मियाँ पोएट्री' असम में मुसलमान कवियों के द्वारा 'मिया' बोली में लिखी गयी कविताएँ हैं, जो उनके साथ होते आए सामाजिक भेदभाव को दर्ज करती...
Kid, Girl

अँधेरे से उजाले की सिम्त

मूल रचना: 'अँधेरे से उजाले की ओर' -  अनुराधा अनन्या रूपान्तरण: असना बद्रमुँह अँधेरे घर के सारे काम करके दूर के स्कूल जाती बच्चियाँ धूप में तपता हुआ...
Tribe, Village, Adivasi, Labour, Tribal, Poor

तुम में भी आग दहकती है जीवन की

तुम मैदानों और पहाड़ों के बीच झूलते हो किसी अदृश्य झूले में तुम में आग दहकती है जीवन की पहाड़ दर पहाड़ की चढ़ाई करके पहुँच जाते हो जीवन...
Anuradha Annanya

सोचना

क्या होगा, क्या हो सकता था क्या बचेगा, क्या नहीं बचा कितना सिर खपाऊ और उबाऊ है ये सोचनाएक बूढ़ी हो चुकी ढीठ माशूक़ा बन्द कमरे में...

हम मिलते रहेंगे

जैसा कि तय था हम मिलते हैं उतनी ही बेक़रारी से जैसे तुम आये हो किसी दूसरे ही नक्षत्र से अपने हमवतन दोस्तों के पासअपने गर्म कपड़ों,...

सरहद के किनारे से

तुम हर साल ख़ास मौसम में आते हो मुझ तक और मैं भी एक ख़ास मौसम में हो आती हूँ तुम्हारी धरती पर एक ही देश...
Woman reading newspaper

पढ़ी लिखी लड़कियाँ

लड़कियाँ पढ़-लिख गई तमाम सरकारी योजनाओं ने सफलता पाई गैरसरकारी संस्थाओं के आँकड़े चमके पिताओं ने पुण्य कमाया और भाईयों ने बराबरी का दर्जा देने की सन्तुष्टि हासिल कीपढ़ी...
Woman

अँधेरे से उजाले की ओर

मुँह अँधेरे उठकर घर के काम निपटा कर विद्यालय जाती बच्चियाँविद्यालय जिसके दरवाज़े पर लिखा है 'अँधेरे से उजाले की ओर'घर से पिट कर आई शिक्षिका सूजे हुए...
Nails on Body

अगर तस्वीर बदल जाए

सुनो, अगर मैं बन जाऊँ तुम्हारी तरह प्रेम लुटाने की मशीन मैं करने लगूँ तुमसे तुम्हारे ही जैसा प्यार तुम्हारी तरह का स्पर्श जो आते-जाते मेरे गालों पे...
Woman in Sari, Pallu

स्त्रीधन

भारतीय समाज में बेटी की शादी या बहू के आगमन की तैयारियाँ सालों पहले से शुरू हो जाती हैं, लेकिन इन 'भौतिक' दिखने वाली तैयारियों के पीछे उन्हें क्या-क्या संजोकर रखने के लिए दे दिया जाता है, इसका अंदाज़ा खुद यह समाज आज तक नहीं लगा पाया!
Anuradha Annanya

एक पन्ना और बस मैं

मैंने सारे क्षोभ को बटोरा और कलम उठाई फिर अपने सारे दुखों को ,निराशा को, थकान को शब्दों मे पिरो कर कागज़ पर रसीद कर दिया जैसे पूरा...
Girl, Woman

भागी हुई लड़कियों के घर

वो लड़कियाँ जिनके घर छूट गये जिन्होंने घर छोड़ दिया या जो लड़कियाँ भाग गईं व्यवस्थाओं में ढलने के इनकार के साथऐसी लड़कियों को सूँघ-सूँघ कर खोजा गया पृथ्वी...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
19,561FollowersFollow
27,545FollowersFollow
1,630SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Man lying on footpath, Homeless

तीन चित्र : स्वप्न, इनकार और फ़ुटपाथ पर लेटी दुनिया

1 हम मृत्यु-शैय्या पर लेटे-लेटे स्वप्न में ख़ुद को दौड़ता हुआ देख रहे हैंऔर हमें लगता है हम जी रहे हैं हम अपनी लकड़ियों में आग के...
Fair, Horse Ride, Toy

मेला

1 हर बार उस बड़ी चरखी पर जाता हूँ जो पेट में छुपी हुई मुस्कान चेहरे तक लाती है कई लोग साल-भर में इतना नहीं हँसते जितना खिलखिला लेते हैं...
Man holding train handle

आधुनिकता

मैं इक्कीसवीं सदी की आधुनिक सभ्यता का आदमी हूँ जो बर्बरता और जंगल पीछे छोड़ आया हैमैं सभ्य समाज में बेचता हूँ अपना सस्ता श्रम और दो वक़्त की...
Justyna Bargielska

यूस्टीना बारगिल्स्का की कविताएँ

1977 में जन्मीं, पोलिश कवयित्री व उपन्यासकार यूस्टीना बारगिल्स्का (Justyna Bargielska) के अब तक सात कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं और उन्हें दो...
Saadat Hasan Manto

ख़ुशिया

ख़ुशिया सोच रहा था।बनवारी से काले तम्बाकूवाला पान लेकर वह उसकी दुकान के साथ लगे उस संगीन चबूतरे पर बैठा था जो दिन के...
Naresh Mehta

घर की ओर

वह— जिसकी पीठ हमारी ओर है अपने घर की ओर मुँह किये जा रहा है जाने दो उसे अपने घर।हमारी ओर उसकी पीठ— ठीक ही तो है मुँह यदि होता तो...
Upma Richa

या देवी

1सृष्टि की अतल आँखों में फिर उतरा है शक्ति का अनंत राग धूम्र गंध के आवक स्वप्न रचती फिर लौट आयी है देवी रंग और ध्वनि का निरंजन...
Chen Kun Lun

चेन कुन लुन की कविताएँ

चेन कुन लुन का जन्म दक्षिणी ताइवान के काओशोंग शहर में सन 1952 में हुआ। वह एक सुधी सम्पादक रहे हैं। चेन लिटरेरी ताइवान...
Bharat Ke Pradhanmantri - Rasheed Kidwai

किताब अंश: भारत के प्रधानमंत्री

सुपरिचित पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक रशीद किदवई की किताब 'भारत के प्रधानमंत्री : देश, दशा, दिशा' भारत के पहले प्रधानमंत्री से लेकर वर्तमान प्रधानमंत्री...
Muktibodh - Premchand

मेरी माँ ने मुझे प्रेमचन्द का भक्त बनाया

एक छाया-चित्र है। प्रेमचन्द और प्रसाद दोनों खड़े हैं। प्रसाद गम्भीर सस्मित। प्रेमचन्द के होंठों पर अस्फुट हास्य। विभिन्न विचित्र प्रकृति के दो धुरन्धर...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)