Tag: Anuradha Annanya

Miya Poetry

लिखो, मैं मियाँ हूँ!

'मियाँ पोएट्री' असम में मुसलमान कवियों के द्वारा 'मिया' बोली में लिखी गयी कविताएँ हैं, जो उनके साथ होते आए सामाजिक भेदभाव को दर्ज करती...
Kid, Girl

अँधेरे से उजाले की सिम्त

मूल रचना: 'अँधेरे से उजाले की ओर' -  अनुराधा अनन्या रूपान्तरण: असना बद्र मुँह अँधेरे घर के सारे काम करके दूर के स्कूल जाती बच्चियाँ धूप में तपता हुआ...
Tribe, Village, Adivasi, Labour, Tribal, Poor

तुम में भी आग दहकती है जीवन की

तुम मैदानों और पहाड़ों के बीच झूलते हो किसी अदृश्य झूले में तुम में आग दहकती है जीवन की पहाड़ दर पहाड़ की चढ़ाई करके पहुँच जाते हो जीवन...
Anuradha Annanya

सोचना

क्या होगा, क्या हो सकता था क्या बचेगा, क्या नहीं बचा कितना सिर खपाऊ और उबाऊ है ये सोचना एक बूढ़ी हो चुकी ढीठ माशूक़ा बन्द कमरे में...

हम मिलते रहेंगे

जैसा कि तय था हम मिलते हैं उतनी ही बेक़रारी से जैसे तुम आये हो किसी दूसरे ही नक्षत्र से अपने हमवतन दोस्तों के पास अपने गर्म कपड़ों,...

सरहद के किनारे से

तुम हर साल ख़ास मौसम में आते हो मुझ तक और मैं भी एक ख़ास मौसम में हो आती हूँ तुम्हारी धरती पर एक ही देश...
Woman reading newspaper

पढ़ी लिखी लड़कियाँ

लड़कियाँ पढ़-लिख गई तमाम सरकारी योजनाओं ने सफलता पाई गैरसरकारी संस्थाओं के आँकड़े चमके पिताओं ने पुण्य कमाया और भाईयों ने बराबरी का दर्जा देने की सन्तुष्टि हासिल की पढ़ी...
Woman

अँधेरे से उजाले की ओर

मुँह अँधेरे उठकर घर के काम निपटा कर विद्यालय जाती बच्चियाँ विद्यालय जिसके दरवाज़े पर लिखा है 'अँधेरे से उजाले की ओर' घर से पिट कर आई शिक्षिका सूजे हुए...
Nails on Body

अगर तस्वीर बदल जाए

सुनो, अगर मैं बन जाऊँ तुम्हारी तरह प्रेम लुटाने की मशीन मैं करने लगूँ तुमसे तुम्हारे ही जैसा प्यार तुम्हारी तरह का स्पर्श जो आते-जाते मेरे गालों पे...
Woman in Sari, Pallu

स्त्रीधन

भारतीय समाज में बेटी की शादी या बहू के आगमन की तैयारियाँ सालों पहले से शुरू हो जाती हैं, लेकिन इन 'भौतिक' दिखने वाली तैयारियों के पीछे उन्हें क्या-क्या संजोकर रखने के लिए दे दिया जाता है, इसका अंदाज़ा खुद यह समाज आज तक नहीं लगा पाया!
Anuradha Annanya

एक पन्ना और बस मैं

मैंने सारे क्षोभ को बटोरा और कलम उठाई फिर अपने सारे दुखों को ,निराशा को, थकान को शब्दों मे पिरो कर कागज़ पर रसीद कर दिया जैसे पूरा...
Girl, Woman

भागी हुई लड़कियों के घर

वो लड़कियाँ जिनके घर छूट गये जिन्होंने घर छोड़ दिया या जो लड़कियाँ भाग गईं व्यवस्थाओं में ढलने के इनकार के साथ ऐसी लड़कियों को सूँघ-सूँघ कर खोजा गया पृथ्वी...

STAY CONNECTED

34,951FansLike
14,116FollowersFollow
22,311FollowersFollow
829SubscribersSubscribe

Recent Posts

Sandeep Nirbhay

मुसलमानों की गली

आज वह शहर की उस गली में गया जहाँ जाने से लोग अक्सर कतराते हैं पान की गुमटी में बैठी एक बुढ़िया पढ़ रही है उर्दू की...
Farmers

मेरे पुरखे किसान थे

मेरे पुरखे किसान थे मैं किसान नहीं हूँ मेरी देह से खेत की मिट्टी की कोई आदिम गन्ध नहीं आती पर मेरे मन के किसी पवित्र स्थान पर सभी पुरखे जड़...
Anurag Anant

तुम्हारे कंधे से उगेगा सूरज

तुम्हारी आँखें मखमल में लपेटकर रखे गए शालिग्राम की मूरत हैं और मेरी दृष्टि शोरूम के बाहर खड़े खिलौना निहारते किसी ग़रीब बच्चे की मजबूरी मैंने जब-जब तुम्हें देखा ईश्वर अपने अन्याय...
Two Indian Women standing

बहनें

कोयला हो चुकी हैं हम बहनों ने कहा रेत में धँसते हुए ढक दो अब हमें चाहे हम रुकती हैं यहाँ तुम जाओ बहनें दिन को...
Jaun Elia

समझ में ज़िन्दगी आए कहाँ से

समझ में ज़िन्दगी आए कहाँ से पढ़ी है ये इबारत दरमियाँ से यहाँ जो है तनफ़्फ़ुस ही में गुम है परिंदे उड़ रहे हैं शाख़-ए-जाँ से मकान-ओ-लामकाँ के...
Abstract, Head, Human

मेरी आवाज़, भेद का भाव

मेरी आवाज़ बचपन से कोशिश जारी है पर अब तक पहाड़ के पार मेरी आवाज़ नहीं जाती पहले गूँजती थी और लम्बी यात्रा कर टकराकर लौट आती थी पहाड़ के इस...
Man outside a village home

आदमी का गाँव

हर आदमी के अन्दर एक गाँव होता है जो शहर नहीं होना चाहता बाहर का भागता हुआ शहर अन्दर के गाँव को बेढंगी से छूता रहता है जैसे उसने...
Leeladhar Jagudi

प्रेम व्‍यापार

किसी दिन तुमने कह दिया कि दिखाओ नदी असल और सच्‍ची। तो मैं क्‍या करूँगा? आज तो यह कर सकता हूँ—घर के सीले कोने में जाकर...
Ibbar Rabbi

‘वर्षा में भीगकर’ से कविताएँ

काव्य-संकलन: 'वर्षा में भीगकर' प्रकाशन: किताबघर प्रकाशन सुबह दे दो मुझे मेरी सुबह दे दो सुबह से कम कुछ भी नहीं सूरज से अलग कुछ भी नहीं लाल गर्म सूरज जोंक...
Nirmala Putul

बाहामुनी

तुम्हारे हाथों बने पत्तल पर भरते हैं पेट हज़ारों पर हज़ारों पत्तल भर नहीं पाते तुम्हारा पेट कैसी विडम्बना है कि ज़मीन पर बैठ बुनती हो चटाइयाँ और...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)