Tag: Asna Badar

Martha Medeiros

रफ़ता-रफ़ता यूँ ही किसी रोज़ मर न जाओ

कविता: रफ़ता-रफ़ता यूँ ही किसी रोज़ मर न जाओ ('You Start Dying Slowly') कवयित्री: मार्था मेदेरुस (Martha Medeiros)अनुवाद: असना बद्रतो रफ़ता-रफ़ता यूँ ही किसी रोज़...
Man In Dark

आदमीनामा

मेरी प्यारी औरत उषा सिंगर लेकर क्या समझीं ‏सीने वाले सूट कमीज दोशाले हम ही होते हैं ‏घर की हांडी भून के किस ख़ुशफ़हमी में तुम...
Kid, Girl

अँधेरे से उजाले की सिम्त

मूल रचना: 'अँधेरे से उजाले की ओर' -  अनुराधा अनन्या रूपान्तरण: असना बद्रमुँह अँधेरे घर के सारे काम करके दूर के स्कूल जाती बच्चियाँ धूप में तपता हुआ...
Anger, Stress, Mental illness, Shout, Scream, Animal

ऑफ़िस-ऑफ़िस

जैसे ही मालूम हुआ ‏के ज़िल्ले इलाही नालाँ हैं ‏तो सदरे महकमा सूट पहन तैयार हुए ‏और ‏मातहती के फ़र्ज़ निभाकर ‏सर को झुकाकर ‏बोझल क़दमों वापस आये ‏रात में ख़ाली सूप...
War, Guns, Army

जंग

जंग इक जोश है ‏आग है, रोष है ‏बस उन्हीं के लिए ‏जिनको सरहद पे गोली चलाना नहीं ‏जिनके सीने किसी का निशाना ‏नहीं‏जंग सौभाग है ‏जज़्ब है, त्याग है ‏बस उन्हीं के...
Old woman

अभी से कौन मरता है?

गुलाबी सुर्ख़ नीली सब्ज़ मेरे पास हर मौसम की साड़ी है बनारस और कोटा सिल्क की मैसूर की साड़ी दिवाली, ईद, होली की शबे आशूर की साड़ीदोपट्टे जो चुने...
Traditional Woman leaning on wall

वो कैसी औरतें थीं?

'Wo Kaisi Auratein Thin', a nazm by Asna Badarवो कैसी औरतें थीं...?जो गीली लकड़ियों को फूँककर चूल्हा जलाती थीं जो सिल पर सुर्ख़ मिर्चें पीसकर...

STAY CONNECTED

38,332FansLike
20,438FollowersFollow
28,440FollowersFollow
1,730SubscribersSubscribe

RECENT POSTS

Thithurte Lamp Post - Adnan Kafeel Darwesh

‘ठिठुरते लैम्प पोस्ट’ से कविताएँ

अदनान कफ़ील 'दरवेश' का जन्म ग्राम गड़वार, ज़िला बलिया, उत्तर प्रदेश में हुआ। दिल्ली विश्वविद्यालय से कम्प्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने...
Vijendra Anil

कहाँ हैं तुम्हारी वे फ़ाइलें

मैं जानता था—तुम फिर यही कहोगे यही कहोगे कि राजस्थान और बिहार में सूखा पड़ा है ब्रह्मपुत्र में बाढ़ आयी है, उड़ीसा तूफ़ान की चपेट में...
Dunya Mikhail

दुन्या मिखाइल की कविता ‘चित्रकार बच्चा’

इराक़ी-अमेरिकी कवयित्री दुन्या मिखाइल (Dunya Mikhail) का जन्म बग़दाद में हुआ था और उन्होंने बग़दाद विश्वविधालय से बी.ए. की डिग्री प्राप्त की। सद्दाम हुसैन...
Muktibodh - T S Eliot

टी. एस. ईलियट के प्रति

पढ़ रहा था कल तुम्हारे काव्य कोऔर मेरे बिस्तरे के पास नीरव टिमटिमाते दीप के नीचे अँधेरे में घिरे भोले अँधेरे में घिरे सारे सुझाव, गहनतम संकेत! जाने...
Jeffrey McDaniel

जेफ़री मैकडैनियल की कविता ‘चुपचाप संसार’

जेफ़री मैकडैनियल (Jeffrey McDaniel) के पाँच कविता संग्रह आ चुके हैं, जिनमें से सबसे ताज़ा है 'चैपल ऑफ़ इनडवर्टेंट जॉय' (यूनिवर्सिटी ऑफ़ पिट्सबर्ग प्रेस,...
Antas Ki Khurchan - Yatish Kumar

‘अन्तस की खुरचन’ से कविताएँ

यतीश कुमार की कविताओं को मैंने पढ़ा। अच्छी रचना से मुझे सार्वजनिकता मिलती है। मैं कुछ और सार्वजनिक हुआ, कुछ और बाहर हुआ, कुछ...
Shivangi

उसके शब्दकोश से मैं ग़ायब हूँ

मेरी भाषा मेरी माँ की तरह ही मुझसे अनजान है वह मेरा नाम नहीं जानती उसके शब्दकोश से मैं ग़ायब हूँ मेरे नाम के अभाव से, परेशान वह बिलकुल माँ...
Savitribai Phule, Jyotiba Phule

सावित्रीबाई फुले का ज्योतिबा फुले को पत्र

Image Credit: Douluri Narayanaप्रिय सत्यरूप जोतीबा जी को सावित्री का प्रणाम,आपको पत्र लिखने की वजह यह है कि मुझे कई दिनों से बुख़ार हो रहा...
Khoyi Cheezon Ka Shok - Savita Singh

‘खोई चीज़ों का शोक’ से कविताएँ

सविता सिंह का नया कविता संग्रह 'खोई चीज़ों का शोक' सघन भावनात्मक आवेश से युक्त कविताओं की एक शृंखला है जो अत्यन्त निजी होते...
Rahul Tomar

कविताएँ: दिसम्बर 2021

आपत्तियाँ ट्रेन के जनरल डिब्बे में चार के लिए तय जगह पर छह बैठ जाते थे तो मुझे कोई आपत्ति नहीं होती थीस्लीपर में रात के समय...
कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)