तुम अपनी करनी कर गुज़रो

‘Tum Apni Karni Kar Guzro’
a nazm by Faiz Ahmad Faiz

अब क्यूँ उस दिन का ज़िक्र करो
जब दिल टुकड़े हो जाएगा
और सारे ग़म मिट जाएँगे
जो कुछ पाया खो जाएगा
जो मिल न सका वो पाएँगे
ये दिन तो वही पहला दिन है
जो पहला दिन था चाहत का
हम जिसकी तमन्ना करते रहे
और जिससे हरदम डरते रहे
ये दिन तो कई बार आया
सौ बार बसे और उजड़ गए
सौ बार लुटे और भर पाया

अब क्यूँ उस दिन का ज़िक्र करो
जब दिल टुकड़े हो जाएगा
और सारे ग़म मिट जाएँगे
तुम ख़ौफ़-ओ-ख़तर से दर-गुज़रो
जो होना है, सो होना है
गर हँसना है, तो हँसना है
गर रोना है, तो रोना है
तुम अपनी करनी कर गुज़रो
जो होगा देखा जाएगा!

यह भी पढ़ें: फ़ैज़ की नज़्म ‘हम देखेंगे’

Book by Faiz Ahmad Faiz: