प्रीति कर्ण

प्रीति कर्ण
16 POSTS 0 COMMENTS
कविताएँ नहीं लिखती कलात्मकता से जीवन में रचे बसे रंग उकेर लेती हूं भाव तूलिका से। कुछ प्रकृति के मोहपाश की अभिव्यंजनाएं।

STAY CONNECTED

29,695FansLike
7,968FollowersFollow
17,197FollowersFollow
341SubscribersSubscribe

MORE READS

कॉपी नहीं, शेयर करें! ;-)