कोई बड़ी बात नहीं, महसूस करना
किसी भूखे इंसान का दर्द
जब भूख से जल रही हों
अंतड़ियाँ खुद की
बल्कि
भरपेट भोजन मिलने पर भी
अगर महसूस करते हो
किसी दूसरे के पेट की ज्वाला
और उसी में से बचा लेते हो
किसी भूखे के लिए कुछ निवाला
तो फिर बचा ले जाओगे
अपने भीतर की इंसानियत
जो संवेदनाओं के अभाव में
भूखी रहकर मर जाती है
भीतर ही भीतर…

और सुनो
फिर कोई भी इंसान
भूखा नहीं मरेगा।