देखना भी तो उन्हें दूर से देखा करना
शेवा-ए-इश्क़ नहीं हुस्न को रुस्वा करना

इक नज़र भी तेरी काफ़ी थी प-ए-राहत-ए-जाँ
कुछ भी दुश्वार न था मुझको शकेबा करना

उन को याँ वादे पे आ लेने दे ऐ अब्र-ए-बहार
जिस क़दर चाहना फिर बाद में बरसा करना

शाम हो या कि सहर याद उन्हीं की रखनी
दिन हो या रात हमें ज़िक्र उन्हीं का करना

सौम ज़ाहिद को मुबारक रहे आबिद को सलात
आसियों को तेरी रहमत पे भरोसा करना

आशिक़ो हुस्न-ए-जफ़ाकार का शिकवा है गुनाह
तुम ख़बरदार ख़बरदार न ऐसा करना

कुछ समझ में नहीं आता कि ये क्या है ‘हसरत’
उनसे मिलकर भी न इज़हार-ए-तमन्ना करना!

हसरत मोहानी की ग़ज़ल 'वो चुप हो गए मुझसे क्या कहते-कहते'

Recommended Book:

Previous articleमहुए के पीछे से झाँका है चाँद
Next articleयदि प्रेमिका मेरी बनोगी
हसरत मोहानी
मौलाना हसरत मोहानी (1 जनवरी 1875 - 1 मई 1951) साहित्यकार, शायर, पत्रकार, इस्लामी विद्वान, समाजसेवक और आज़ादी के सिपाही थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here