गुलाब
तू बदरंग हो गया है
बदरूप हो गया है
झुक गया है
तेरा मुँह चुचुक गया है
तू चुक गया है।

ऐसा तुझे देखकर
मेरा मन डरता है
फूल इतना डरावाना होकर मरता है!

ख़ुशनुमा गुलदस्ते में
सजे हुए कमरे में
तू जब
ऋतु-राज राजदूत बन आया था
कितना मन भाया था—
रंग-रूप, रस-गंध, टटका
क्षण-भर को
पंखुरी की परतों में
जैसे हो अमरत्व अटका!
कृत्रिमता देती है कितना बड़ा झटका!

तू आसमान के नीचे सोता
तो ओस से मुँह धोता
हवा के झोंके से झरता
पंखुरी-पंखुरी बिखरता
धरती पर सँवरता
प्रकृति में भी है सुन्दरता!

हरिवंशराय बच्चन की कविता 'मेरे जीवन का सबसे बड़ा काम'

Book by Harivanshrai Bachchan:

Previous articleअभागी स्त्री
Next articleसमय की बोधकथा
हरिवंशराय बच्चन
हरिवंश राय श्रीवास्तव "बच्चन" (27 नवम्बर 1907 – 18 जनवरी 2003) हिन्दी भाषा के एक कवि और लेखक थे। इलाहाबाद के प्रवर्तक बच्चन हिन्दी कविता के उत्तर छायावाद काल के प्रमुख कवियों मे से एक हैं। उनकी सबसे प्रसिद्ध कृति मधुशाला है। बच्चन जी की गिनती हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवियों में होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here