Ek Rajaiya Biwi Bachche | Ramkumar Krishak

एक रजैया बीवी-बच्चे
एक रजैया मैं
खटते हुए ज़िन्दगी बोली—
हो गया हुलिया टैं!

जब से आया शहर
गाँव को बड़े-बड़े अफ़सोस
माँ-बहनें-परिवार घेर-घर लगते सौ-सौ कोस
सड़कों पर चढ़, पगडण्डी की
बोल न पाया जै!

खटते हुए ज़िन्दगी बोली—
हो गया हुलिया टैं!

बनकर बाबू बुझे
न जाने कहाँ गई वो आग
कूद-कबड्डी गिल्ली-बल्ला कजली-होली-फाग
आल्हा-ऊदल भूले, भूली
रामायन बरवै!

खटते हुए ज़िन्दगी बोली—
हो गया हुलिया टैं!

पढ़ना-लिखना निखद
निखद या पढ़े-लिखों का सोच
गाँव शहर आकर हो जाता कितना-कितना पोच
राई के परबत-से लगते
छोटे-छोटे भै!

खटते हुए ज़िन्दगी बोली—
हो गया हुलिया टैं!

Book by Ramkumar Krishak:

Previous articleवो आदमी नहीं है, मुकम्मल बयान है
Next articleमैं इक फेरीवाला
रामकुमार कृषक
(जन्म: 1 अक्टूबर 1943)सुपरिचित हिन्दी कवि व ग़ज़लकार।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here