प्रेम में चूम लेती थी
आँखों को
कभी माथे को
लेकिन आत्मा को चूमना
प्रेम में मृत्यु का अभ्यास करना है

कोहरे से भरी शाम में
उदास एकांत से ढकी हुई आत्मा
शब्द दर शब्द बहती रही
चूमना बाकी था एक-दूसरे के होंठ
बस क्षणभर की दूरी थी दोनों के बीच
अंतराल के मध्य से आवाज आई
पाँच साल पहले चूम लिए थे मेरे होंठ
किसी आवारा लड़के ने
प्रारम्भ से अंत तक
आखिर होंठों को आत्मा तक जाना होता है।

प्रेम ने इस तरह थामे मेरे हाथ
गिरने के भय से बचा लिया हर बार
जैसे कोई बच्चा माटी में गिरा
धूल से लिपटा,
मुस्कराते होंठ लेकर खड़ा हुआ

प्रेम मुस्कराहट लेकर आता है
चला जाता है
आत्मा में धूल और धुँआ भरकर…

यह भी पढ़ें: ‘प्रेम एकनिष्ठ होता है, पीड़ाएँ बहुवचन होती हैं

Previous articleपानी
Next articleफिर विकल हैं प्राण मेरे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here