यह स्त्री
सब कुछ जानती है
पिंजरे के बारे में
जाल के बारे में
यंत्रणागृहों के बारे में।

उससे पूछो
पिंजरे के बारे में पूछो
वह बताती है
नीले अनन्त विस्तार में
उड़ने के
रोमांच के बारे में।

जाल के बारे में पूछने पर
गहरे समुद्र में
खो जाने के
सपने के बारे में
बातें करने लगती है।

यंत्रणागृहों की बात छिड़ते ही
गाने लगती है
प्यार के बारे में एक गीत।

रहस्यमय हैं इस स्त्री की उलटबासियाँ
इन्हें समझो,
इस स्त्री से डरो।

कात्यायनी की कविता 'सात भाइयों के बीच चम्पा'

Book by Katyayani:

Previous articleविलुप्त भाषा
Next articleमृत्यु को नींद कहूँगा
कात्यायनी
जन्म: 7 मई, 1959हिन्दी की सुपरिचित कवयित्री।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here