जहाँ ढेर सारा अँधेरा था

‘Jahan Dher Sara Andhera Tha’, a poem by Rupam Mishra

जहाँ ढेर सारा अँधेरा था
वहीं से मैंने रोशनी की शुरुआत की

जहाँ अस्तित्व में आना गुनाह था
वहीं से मैंने रोज़ जन्म लिया

जहाँ रोने तक की आज़ादी नहीं थी
वहाँ मैंने मुस्कुराहटें सहेजे रखा

जहाँ क़दमों में बेड़ियाँ थीं
थिरकने की गुंजाइश नहीं थी
वहाँ मैंने उड़ने की सम्भावना तलाश की

जहाँ ढेर सारा शोर था
वहाँ भी मैंने एकांत खोजा

जहाँ देह को ज़िन्दा रखने के लिए
मन को मार दिया जाता था
वहीं मैंने बस मन की सुनी

जहाँ अच्छा कहे जाने का
लोभ बिछाया गया था
वहीं मैंने सामान्य से नीचे
बने रहने की इच्छा की

जहाँ तनाव उभरने को सिर उठा रहा था
वहीं मैंने बेसबब हँसी ढूँढी

जहाँ बस समझौते ही समझौते थे
वहाँ मैंने बिना शर्त प्रेम किया

जहाँ से कभी कोई जवाब नहीं आया
मैंने वहाँ रोज़ ख़त लिखे।

यह भी पढ़ें: ‘ये लड़कियाँ बथुआ की तरह उगी थीं’

Recommended Book: