‘Janmdin Ke Sirhane’, a poem by Pranjal Rai

समय की धार पर
फिसलती जा रही है उम्र
धीरे-धीरे!
अँधेरे रास्तों से
गुज़रते हुए
दृष्टि की रोशनी
नाप ही लेती है
रास्तों की अथाह लम्बाई।
हर्फ़ लिपटे वातायनों से झाँकते हुए
जुटा लिए हैं
रोशनी के महीन धागों में
लिपटे हुए
कुछ दस्तावेज़
जिन पर बचे रह जाएँगे – हस्ताक्षर।
आमन्त्रित करते हैं
ढलती उम्र के उत्सव
कि राह अभी शेष है।

Previous articleमेरे प्रेम
Next articleतलाश के बाद मुलाक़ात
प्रांजल राय
बैंगलोर में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में कार्यरत | बिरला प्रौद्योगिकी संस्थान से बी.टेक. | वागर्थ, कथादेश, पाखी, समावर्तन, कथाक्रम, परिकथा, अक्षरपर्व, जनसंदेश-टाइम्स, अभिनव इमरोज़, अनुनाद एवं सम्प्रेषण आदि पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here