ये कूचे, ये नीलाम घर दिलकशी के
ये लुटते हुए कारवाँ ज़िन्दगी के
कहाँ हैं, कहाँ हैं मुहाफ़िज़ ख़ुदी के
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

ये पुर-पेच गलियाँ, ये बे-ख़्वाब बाज़ार
ये गुमनाम राही, ये सिक्कों की झंकार
ये इस्मत के सौदे, ये सौदों पे तकरार
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

तअफ़्फ़ुन से पुर नीम-रौशन ये गलियाँ
ये मसली हुई अध-खिली ज़र्द कलियाँ
ये बिकती हुई खोखली रंग-रलियाँ
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

वो उजले दरीचों में पायल की छन-छन
तनफ़्फ़ुस की उलझन पे तबले की धन धन
ये बे-रूह कमरों में खाँसी की ठन ठन
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

ये गूँजे हुए क़हक़हे रास्तों पर
ये चारों तरफ़ भीड़-सी खिड़कियों पर
ये आवाज़े खिंचते हुए आँचलों पर
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

ये फूलों के गजरे, ये पीकों के छींटे
ये बेबाक नज़रें, ये गुस्ताख़ फ़िक़रे
ये ढलके बदन और ये मदक़ूक़ चेहरे
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

ये भूखी निगाहें, हसीनों की जानिब
ये बढ़ते हुए हाथ सीनों की जानिब
लपकते हुए पाँव ज़ीनों की जानिब
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

यहाँ पीर भी आ चुके हैं, जवाँ भी
तनौ-मंद बेटे भी, अब्बा, मियाँ भी
ये बीवी भी है और बहन भी है, माँ भी
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

मदद चाहती है ये हव्वा की बेटी
यशोधा की हम-जिंस राधा की बेटी
पयम्बर की उम्मत ज़ुलेख़ा की बेटी
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं

बुलाओ ख़ुदायान-ए-दीं को बुलाओ
ये कूचे, ये गलियाँ, ये मंज़र दिखाओ
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ को लाओ
सना-ख़्वान-ए-तक़्दीस-ए-मशरिक़ कहाँ हैं?!

साहिर लुधियानवी की नज़्म 'ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है'

Book by Sahir Ludhianvi:

Previous articleभाषा के एक सेतु कवि का जाना
Next articleहरिराम मीणा की क्षणिकाएँ
साहिर लुधियानवी
साहिर लुधियानवी (8 मार्च 1921 - 25 अक्टूबर 1980) एक प्रसिद्ध शायर तथा गीतकार थे। इनका जन्म लुधियाना में हुआ था और लाहौर (चार उर्दू पत्रिकाओं का सम्पादन, सन् 1948 तक) तथा बंबई (1949 के बाद) इनकी कर्मभूमि रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here