कब्ज़ा

‘Kabza’, a poem by Amandeep Gujral

दृश्य 1

एक निर्जन-सा चौराहा
बड़ा सा पेड़
साँय-साँय करती हवा
इक्का-दुक्का गाड़ियाँ
मुट्ठी भर लोग

दृश्य 2

एक छोटा-सा चौकोर पत्थर
लाल-काली रेखाएँ
थोड़ी-सी अगरबत्तियाँ और एक दिया

दृश्य 3

स्वयं घोषित सेवक
कुछ रेड़ियों में फूल मालाएँ
ढोल-मंजीरे

दृश्य 4

नींव का पत्थर
छोटा-सा चबूतरा
बड़ी तेज़ी से बढ़ती इमारत
उससे भी तीव्र गति से बढ़ती दान-पेटी
और उससे भी तेज़
बढ़ते पेट, महल, नौकर-चाकर और गाड़ियाँ
अनगिनत भक्त
कुर्सी तक पहुँच।

यह भी पढ़ें:

राहुल बोयल की कविता ‘विकृति’
जितेंद्र की कविता ‘आदमी है बन्दर’
मेवाराम कटारा ‘पङ्क’ की कविता ‘चार आयाम’

Recommended Book: