मथुरा कि नगर है आशिक़ी का
दम भरती है आरज़ू इसी का

हर ज़र्रा-ए-सर-ज़मीन-ए-गोकुल
दारा है जमाल-ए-दिलबरी का

बरसाना-ओ-नंद-गाँव में भी
देख आए हैं जल्वा हम किसी का

पैग़ाम-ए-हयात-ए-जावेदाँ था
हर नग़्मा-ए-कृष्ण बाँसुरी का

वो नूर सियाह या कि हसरत
सर-चश्मा फ़रोग़-ए-आगही का..

Previous articleनाक
Next articleभारती मुखर्जी
हसरत मोहानी
मौलाना हसरत मोहानी (1 जनवरी 1875 - 1 मई 1951) साहित्यकार, शायर, पत्रकार, इस्लामी विद्वान, समाजसेवक और आज़ादी के सिपाही थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here