अगर होता एक lighthouse उनके लिए, जो भटके हैं, ख़ुद से

एक lighthouse अपनी रूह के लिए
जो हर रोज़, दिन ढले बता जाता,
रास्ता वापसी का… ख़ुद तक!

Previous articleअरे तुम हो काल के भी काल
Next articleएक रात

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here