‘Mrityu Se Bhay’, Hindi Kavita by Rahul Boyal

मुझे मृत्यु से भय नहीं है
मृत्यु के तरीक़े से ज़रूर है!

जन्म के तरीक़ों को
गिना जा सकता है उँगलियों पर
मगर
अनगिनत तरीक़े हैं मृत्यु के
तटस्थता की सबसे बड़ी मिसाल है मृत्यु
विविधता में जैसे मायाजाल है मृत्यु।

यदि विष से हो मृत्यु
तो वह मित्र द्वारा न दिया गया हो
यदि आती है वह घुटन बनकर
तो किसी अपने द्वारा आघात न दिया गया हो

यदि रक्तस्राव से हो मृत्यु
तो रक्त सड़क की बजाय किसी की रगों में बह जाये
चाहे हाइपोथर्मिया ही बन जाये मृत्यु का कारण
मगर अन्त समय तक यह गर्मजोशी रह जाये।

किसी भी तरह से आये मृत्यु
तैयार हूँ मैं, बस यह शर्त है
वह हत्या की तरह न आये,
न पछतावे की तरह आये,
ख़ुशी-ख़ुशी आये या रोते-घबराते आये
लेकिन मृत्यु, मृत्यु की तरह ही आये।

यह भी पढ़ें:

राहुल बोयल की कविता ‘प्रेम में मृत्यु का चुनाव’
राहुल बोयल की कविता ‘मैं फिर फिर लौटूँगा’
अटल बिहारी वाजपेयी की कविता ‘मौत से ठन गयी’

Books by Rahul Boyal:

 

Previous articleमेरे हिस्से का इतवार
Next articleआज एक पतंग को उड़ते देखा
राहुल बोयल
जन्म दिनांक- 23.06.1985; जन्म स्थान- जयपहाड़ी, जिला-झुन्झुनूं( राजस्थान) सम्प्रति- राजस्व विभाग में कार्यरत पुस्तक- समय की नदी पर पुल नहीं होता (कविता - संग्रह) नष्ट नहीं होगा प्रेम ( कविता - संग्रह) मैं चाबियों से नहीं खुलता (काव्य संग्रह) ज़र्रे-ज़र्रे की ख़्वाहिश (ग़ज़ल संग्रह) मोबाइल नम्बर- 7726060287, 7062601038 ई मेल पता- [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here