तुम मिले
तो कई जन्म
मेरी नब्ज़ में धड़के
तो मेरी साँसों ने तुम्हारी साँसों का घूँट पिया
तब मस्तक में कई काल पलट गए

एक गुफ़ा हुआ करती थी
जहाँ मैं थी और एक योगी
योगी ने जब बाजुओं में लेकर
मेरी साँसों को छुआ
तब अल्लाह क़सम!
यही महक थी जो उसके होठों से आयी थी
यह कैसी माया, कैसी लीला
कि शायद तुम ही कभी वह योगी थे
या वही योगी है
जो तुम्हारी सूरत में मेरे पास आया है
और वही मैं हूँ… और वही महक है…

'उम्र के काग़ज़ पर तेरे इश्क़ ने अँगूठा लगाया'

Book by Amrita Pritam:

Previous articleआत्ममुग्ध
Next articleराजद्रोह
अमृता प्रीतम
(31 अगस्त 1919 - 31 अक्टूबर 2005)पंजाब की सबसे लोकप्रिय लेखिका, कवयित्री व उपन्यासकारों में से एक।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here