‘Prem Agar’, a poem by Mudit Shrivastava

प्रेम अगर दिखायी देता
तो वो किसी फूल की तरह दिखता
जिसमें होता मधु या बनता जिससे इत्र
किसी पंछी की तरह दिखता
जिसे सरहदों से कोई मतलब न हो
और वह उड़ता रहता
जहाँ-तहाँ पंख पसारे

प्रेम अगर सुनायी देता
तो किसी कोयल की कूक की तरह सुनायी देता
जिसे ढूँढते हुए
तुम्हारी गर्दन दुखने लगती
बाँसुरी से निकली ध्वनि की तरह होता प्रेम
जिसके लिए बाँस के पेड़ों ने
अपनी क़ुर्बानी दी होती

प्रेम की अगर कोई गंध होती
तो वो ठीक उसी तरह महकती
जिस तरह रात में
रातरानी, या फिर
पहाड़ों से आती मटमैली
गंध!

प्रेम का अगर स्वाद होता
तो वो ठीक उस निवाले की तरह होता
जो बचपन में तुम अपनी माँ के हाथों से खाया करते थे
एक मोटी रोटी और नमक जितना
ही स्वाद…

प्रेम की छुअन अगर होती
तो वो ऐसी होती
जैसे किसी घाव पर मरहम लगाते वक़्त
कोई उसे छूता है पहली दफ़ा
और मन में ही निकलती है
एक मीठी-सी आह!

यह भी पढ़ें:

मुदित श्रीवास्तव की कविता ‘पंच-अतत्व’
रुचि की कविता ‘प्रेम शृंखला’
राहुल बोयल की कविता ‘वास्तु, स्वप्न और प्रेम’

Recommended Book: