‘Prithvi Ki Naak Aur Chitthi’, a poem by Pratibha Gupta

बिस्तर के कोने पर
चुपचाप पड़ी देह
गर्म हो चली थी,
किन्तु आत्मा अब भी ठण्डी थी।
कानों में फुसफुसाता हुआ कोई
हैलेलूय! हैलेलूय! हैलेलूय!
और छाती पर मण्डराती हुई नीली तितली,
बताओ कब देखा तुमने पृथ्वी को
हँसते हुए आख़िरी बार?
गर्भ में पल रहे शिशु को
ऑक्सीजन नहीं पहुँच रहा,
पृथ्वी की नाक
अभी भी जकड़ी हुई है
दोनों उँगलियों के बीच।
स्वप्न में भागते-भागते
मुई सड़क ही ख़त्म हो गई
और वह किरदार निकल आया
नेत्रों से बाहर,
चुप! चुप! चुप!
धीरे से चलना उसके गालों के ढलान पर,
वह आधी नींद में है।
अचानक बह चले आँसू
और वह फिसल के आ गिरा नीचे
धम्म से तकिये के बग़ल
रखी चिट्ठी पर
और उसके भीगे शरीर से
मिट गये कुछ उपसर्ग और प्रत्यय।
उसे पढ़ने मत देना यह चिट्ठी
उठाओ और वापस जाओ स्वप्न में।
ये क्या? वह गहरी नींद में है अब
दूसरे स्वप्न के कपाट खुले हैं,
तुम्हारा किरदार नहीं वहाँ
सुनो! तुमने सुना नहीं क्या?
मैंने कहा पढ़ने मत देना,
ले जाओ पाट दो किसी घाटी पर।
ऐसी ही अनन्त चिट्ठियाँ
पृथ्वी की भुजाओं में पाटी गई हैं,
जिनके बारे में सिर्फ़ वही जानती है
किन्तु उसकी नाक जकड़ी हुई है
दो उँगलियों के बीच में।

यह भी पढ़ें: ‘कोई करने बैठे मेरी व्याख्या सप्रसंग’

Recommended Book:

Previous articleबेजगह
Next articleतुम्हें बहुत ज़्यादा करने की ज़रूरत नहीं है
प्रतिभा गुप्ता
प्रतिभा गुप्ता अवध के शहर गोण्डा से हैं। ये गणित विषय में परास्नातक की छात्रा हैं तथा दो साल अध्यापन कार्य से भी जुड़ी रहीं हैं। कवितायें लिखने तथा पढ़ने के अलावा संगीत में भी इनकी विशेष रुचि है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here