तुम्हारे वक्ष-कक्ष में
जो होतीं सुलह-वार्ताएँ
इज़रायल-फ़िलिस्तीन की
भारत-पाकिस्तान की
इराक़-अमरीका की
हठी सरकारों और उग्र पृथकतावादियों की
तुम्हारी छाती के अन्दर
है जो एक गोल मेज़, उसके चौगिर्द बैठ
जो वहाँ होती संधि-वार्ताएँ
ज़रूर सफल होतीं
झगड़े सलट जाते अदेर
कट्टर दुश्मन गहरे दोस्त बनकर ही उठते

शान्ति-वार्ताओं के लिए
जगह नहीं इस धरती पर कोई और
शुभाशा के वायुमंडल से भरे तुम्हारे वक्ष-कक्ष से बढ़कर
जानता नहीं कोई यह मुझसे ज़्यादा
कि जिसकी चौखट पर
टिकाते ही अशांत माथा
नींद में निर्भार होने लगती है देह
एक शिशु-हथेली मन की स्लेट से पोंछने लगती है आग के आखर!

ज्ञानेन्द्रपति की कविता 'ट्राम में एक याद'

Book by Gyanendrapati:

Previous articleसमय की बोधकथा
Next articleनया पाठ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here