चिट्ठी

स्कूल में मेरी एक किताब
मेरे डेस्क से ग़ायब हो जब वापस लौटी
तो साथ में एक चिट्ठी भी लायी थी
उसमें साफ़-सुथरे शब्दों में लिखा था
‘आई लव यू’
बहुत सम्भालकर रखा उसे
जिल्द के अन्दर छुपाकर
लेकिन
माँ की आँखों में कुछ ऐसा होता है
जो देख लेता है वो सब भी जो हम दिखाना नहीं चाहते
और हाथों में जादू
जो ढूँढ लेता है वो सब भी जो हम छिपाना चाहते हैं
बातों-बातों में बहुत सी नसीहतें देती है
पता है इस उम्र में लड़के थोड़ा बदमाश हो जाते हैं
कभी गाना गाते हैं तो कभी चिट्ठी भिजवाते हैं
चिट्ठी अभी भी वहीं है
जिल्द के नीचे, पर फिर भी
बातों-बातों में ही पूछ लेती है वो चलते-फिरते
तुझे किसी ने चिट्ठी लिखी है?

यह भी पढ़ें:

बद्रीनारायण की कविता ‘प्रेमपत्र’
मुक्तिबोध की कविता ‘तुम्हारा पत्र आया’
शरण कुमार लिंबाले की कविता ‘श्वेतपत्र’
रवीन्द्रनाथ टैगोर की कहानी ‘पत्नी का पत्र’