हो नहीं सकता तिरी इस ‘ख़ुश-मज़ाक़ी’ का जवाब
शाम का दिलकश समाँ और तेरे हाथों में किताब
रख भी दे अब इस किताब-ए-ख़ुश्क को बाला-ए-ताक़
उड़ रहा है रंग-ओ-बू की बज़्म में तेरा मज़ाक़
छुप रहा है पर्दा-ए-मग़रिब में महर-ए-ज़र-फ़िशाँ
दीद के क़ाबिल हैं बादल में शफ़क़ की सुर्ख़ियाँ
मौजज़न जू-ए-शफ़क़ है इस तरह ज़ेर-ए-सहाब
जिस तरह रंगीन शीशों में झलकती है शराब
इक निगारिश-ए-आतिशीं हर शय पे है छाया हुआ
जैसे आरिज़ पर उरूस-ए-नौ के हो रंग-ए-हया
शाना-ए-गीती पे लहराने को हैं गेसु-ए-शब
आसमाँ में मुनअक़िद होने को है बज़्म-ए-तरब
उड़ रहे हैं जुस्तुजू में आशियानों के तुयूर
आ चला है आइने में चाँद के हल्का सा नूर
देख कर ये शाम के नज़्ज़ारा-हा-ए-दिल-नशीं
क्या तिरे दिल में ज़रा भी गुदगुदी होती नहीं
क्या तिरी नज़रों में ये रंगीनियाँ भाती नहीं
क्या हवा-ए-सर्द तेरे दिल को तड़पाती नहीं
क्या नहीं होती तुझे महसूस मुझ को सच बता
तेज़ झोंकों में हवा के गुनगुनाने की सदा
सब्ज़ा-ओ-गुल देख कर तुझ को ख़ुशी होती नहीं
उफ़ तिरे एहसास में इतनी भी रंगीनी नहीं
हुस्न-ए-फ़ितरत की लताफ़त का जो तू क़ाएल नहीं
मैं ये कहता हूँ तुझे जीने का हक़ हासिल नहीं

Previous articleसुबह की तलाश
Next articleमेरे सपनों का भारत
मजाज़ लखनवी
मजाज़ लखनवी (पूरा नाम: असरार उल हक़ 'मजाज़', जन्म: 19 अक्तूबर, 1911, बाराबंकी, उत्तर प्रदेश; मृत्यु: 5 दिसम्बर, 1955) प्रसिद्ध शायर थे। उन्हें तरक्की पसन्द तहरीक और इन्कलाबी शायर भी कहा जाता है। महज 44 साल की छोटी-सी उम्र में उर्दू साहित्य के 'कीट्स' कहे जाने वाले असरार उल हक़ 'मजाज़' इस जहाँ से कूच करने से पहले अपनी उम्र से बड़ी रचनाओं की सौगात उर्दू अदब़ को दे गए शायद मजाज़ को इसलिये उर्दू शायरी का 'कीट्स' कहा जाता है, क्योंकि उनके पास अहसास-ए-इश्क व्यक्त करने का बेहतरीन लहजा़ था।