‘Hidden Poem’ – Naomi Shihab Nye
अनुवाद: पुनीत कुसुम

यदि फ़र्न के पौधे को तुम रख दो
एक पत्थर के नीचे
अगले दिन वह लगभग ग़ायब हो जाएगा
ऐसे जैसे पत्थर ने उसे
निगल लिया हो

यदि तुमने दबा रखा हो किसी प्रिय का नाम
अपनी ज़बान के नीचे एक अरसे से
बिना बोले
तो वह बन जाता है ख़ून
हा!
वो हलकी खींची साँस
छुपती हर जगह
तुम्हारे शब्दों के तले

कोई नहीं देख पाता
तुम्हें पोसते उस ईंधन को!

Previous articleदर्द
Next articleमोक्ष
नाओमी शिहाब न्ये
कवयित्री व उपन्यासकार!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here