‘Jail’, a poem by Vijay Rahi

मैं जानता था
पर कितना कम जानता था
कि जेल सिर्फ़ एक कोठरी का नाम है।

बचपन में गाँव के
हमारे जैसे बच्चों को
तिलक-छापे लगाए हुए
जो भी बुज़ुर्ग आदमी दिखता
हम अपना हाथ आगे कर देते
‘बाबा! देखियो मेरो हाथ!’

मेरे लिए हाथ की रेखाएँ पढ़ना
बिल्कुल ऐसे है
जैसे चम्पा के लिए काले अक्षर।

जब हस्तरेखा पढ़कर बताया गया
‘बेटा! सरकारी नौकरी तो लग जायेगो
पर साथ में जेल भी जायेगो…’

मैं डर गया था
डर के कारण चुप्पी साधे रहा कई दिनों तक
थाने की गाड़ी सपने में दिखती थी मुझे।

मैंने हर सम्भव कोशिश की
इस डर से निकलने की।
मैंने जेल जाने के तमाम कारण ढूँढे
और उनसे सात कोस बचकर चलता।

डर को मात देने के लिए
मन को बहलाया तमाम तरीक़ों से
मैं जो भी कर सकता था, मैंने किया।

आज बरसों बाद
जब सोचता हूँ इन सब के बारे में
मुझे मेरी अक़्लमंदी पर तरस आता है,
रूलाई आती है
और रूलाई के बाद हँसी भी।

तुम्हारे जाने के बाद मुझे ज्ञात हुआ
कि इस भीड़ भरी दुनिया में
अपने प्रिय से दूर रहकर
अकेले तिल-तिल कर मरना
क्या किसी जेल से कम है?

यह भी पढ़ें: किश्वर नाहीद की नज़्म ‘क़ैद में रक़्स’

Recommended Book:

Previous articleगुलज़ार की त्रिवेणियाँ
Next articleनिषेध है वामांगिनी का प्रेयसी होना
विजय राही
विजय राही पेशे से सरकारी शिक्षक है। कुछ कविताएँ हंस, मधुमती, दैनिक भास्कर, राजस्थान पत्रिका, डेली न्यूज, राष्ट्रदूत में प्रकाशित। सम्मान- दैनिक भास्कर युवा प्रतिभा खोज प्रोत्साहन पुरस्कार-2018, क़लमकार द्वितीय राष्ट्रीय पुरस्कार (कविता श्रेणी)-2019

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here