कितना वक़्त
लग जाता है यह जानने में
कि ईश्वर उतना ही था और वैसा ही
जितना-जैसा मैंने उसे होने दिया
अपने जीवन में

जब जब उसे खोजा
अंततः अपनी खोज ही को पाया

जिन्हें उसका संकेत समझा
वे मेरे ही समय-शरीर की
अदृश्य धमनियों के रक्त से लिखी
इबारतें थीं

और यही बात
प्रेम के सम्बन्ध में भी
मान लेने में
कितना वक़्त लग जाता है!

Previous articleयोगेश ध्यानी की कविताएँ
Next articleनताशा की कविताएँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here