क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी

‘Kya Karu Samvedna Lekar Tumhari’, a poem by Harivanshrai Bachchan

क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ?

मैं दुःखी जब-जब हुआ
संवेदना तुमने दिखायी,
मैं कृतज्ञ हुआ हमेशा
रीति दोनों ने निभायी,
किन्तु इस आभार का अब
हो उठा है बोझ भारी,
क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ?

एक भी उच्छ्वास मेरा
हो सका किस दिन तुम्हारा?
उस नयन से बह सकी कब
इस नयन की अश्रु-धारा?
सत्य को मूँदे रहेगी
शब्द की कब तक पिटारी?
क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ?

कौन है जो दूसरों को
दुःख अपना दे सकेगा?
कौन है जो दूसरे से
दुःख उसका ले सकेगा?
क्यों हमारे बीच धोखे
का रहे व्यापार जारी?
क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ?

क्यों न हम लें मान, हम हैं
चल रहे ऐसी डगर पर,
हर पथिक जिस पर अकेला,
दुःख नहीं बँटते परस्पर,
दूसरों की वेदना में
वेदना जो है दिखाता,
वेदना से मुक्ति का निज
हर्ष केवल वह छिपाता,
तुम दुःखी हो तो सुखी मैं
विश्व का अभिशाप भारी!
क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ?

यह भी पढ़ें: ‘रात आधी, खींचकर मेरी हथेली, एक उँगली से लिखा था प्यार तुमने’

Book by Harivanshrai Bachchan: