मैं किसकी औरत हूँ
कौन है मेरा परमेश्‍वर
किसके पाँव दबाती हूँ
किसका दिया खाती हूँ
किसकी मार सहती हूँ
ऐसे ही थे सवाल उसके
बैठी थी जो मेरे सामने वाली सीट पर रेलगाड़ी में
मेरे साथ सफ़र करती

उम्र होगी कोई सत्तर-पचहत्तर साल
आँखें धँस गई थीं उसकी
माँस शरीर से झूल रहा था
चेहरे पर थे दुःख के पठार
थीं अनेक फटकारों की खाइयाँ

सोचकर बहुत मैंने कहा उससे—
मैं किसी की औरत नहीं हूँ
अपना खाती हूँ
जब जी चाहता है तब खाती हूँ
मैं किसी की मार नहीं सहती
मेरा कोई परमेश्‍वर नहीं

उसकी आँखों में भर आयी एक असहज ख़ामोशी
आह! कैसे कटेगा इस औरत का जीवन!
संशय में पड़ गई वह
समझते हुए सब कुछ
मैंने उसकी आँखों को अकेलेपन के गर्व से भरना चाहा
फिर हँसकर कहा— मेरा जीवन तुम्‍हारा ही जीवन है
मेरी यात्रा तुम्‍हारी ही यात्रा
लेकिन कुछ घटित हुआ जिसे तुम नहीं जानतीं—
हम सब जानते हैं अब
कि कोई किसी का नहीं होता
सब अपने होते हैं
अपने आप में लथपथ, अपने होने के हक़ से लक़दक़

यात्रा लेकिन यहीं समाप्‍त नहीं हुई है
अभी पार करनी है कई और खाइयाँ फटकारों की
दुःख के एक-दो और समुद्र
पठार यातनाओं के अभी और दो-चार
जब आख़िर आएगी वह औरत
जिसे देख तुम और भी विस्मित होओगी
भयभीत भी शायद
रोओगी उसक जीवन के लिए फिर हो सशंकित
कैसे कटेगा इस औरत का जीवन फिर से कहोगी तुम
लकिन वह हँसेगी मेरी ही तरह
फिर कहेगी—
उन्‍मुक्‍त हूँ देखो
और यह आसमान
समुद्र यह और उसकी लहरें
हवा यह
और इसमें बसी प्रकृति की गंध सब मेरी हैं
और मैं हूँ अपने पूर्वजों के शाप और अभिलाषाओं से दूर
पूर्णतया अपनी।

सविता सिंह की कविता 'सुन्दर बातें'

Book by Savita Singh:

Previous articleमिट्टी
Next articleसीमा-रेखा
सविता सिंह
जन्म: 5 फ़रवरी, 1962हिन्दी की प्रसिद्ध कवयित्री व आलोचक।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here