‘Mujhse Poochho’, a nazm by Tasneef Haidar

मुझसे पूछो
मेरी सारी उम्र
दूसरे लोगों की तक़लीद में गुज़री है
हुक्म की इक गहरी तामील में गुज़री है
एक लकीर को गाढ़ा करने की तामील में गुज़री है
एक फ़रेब की ग़ैर-ज़रूरी सी तश्कील में गुज़री है

मैंने जिसको क़त्ल किया है
वो दुश्मन तो पैदा होने से पहले ही
मेरे बाप ने चुन लिया था,
मैंने जिसको गाली दी है
उस तहज़ीब का ग़ासिब और कमीना होना साबित है
ये तो मैंने माँ के पेट में सुन लिया था

ये जो मेरे माथे पर
पट्टी बंधी हुई है ग़ुलामी की
वो मुझको पैदा होने से पहले ही पहनायी गयी थी
ये जो चीख़ किसी की सुनकर ख़ुश होता हूँ
ये जो किसी की मौत पे मेरा दिल हँसता है
मुझको इसकी तरबीयत
बचपन से ही करवायी गयी थी

मेरी नज़र में इंसानों के ख़ून की क़ीमत बस इतनी है
जितनी मेरे पैदा होने से पहले
मेरे माँ-बाप के पैदा होने से पहले
उनके माँ-बाप के पैदा होने से पहले
सदियों और ज़मानों पहले
उस इंसान ने तय कर दी थी
जिस पर कोई हलकी-सी तनक़ीद करे तो
मैं दुनिया को आग लगा दूँ
जाँ ले लूँ या जान गँवा दूँ!

यह भी पढ़ें: ‘मछलियों ने साँपों को अपना देवता माना’

Recommended Book:

Previous articleविषतंत्र
Next articleतुम पुरुष हुए, मैं अग्नि
तसनीफ़
तसनीफ़ ने जामिआ मिल्लिया इस्लामिया से एम. ए. (उर्दू) किया है, और अब दिल्ली यूनिवर्सिटी से एम. फिल. कर रहे हैं । साथ ही तसनीफ़ एक ब्लॉगर भी हैं। उनका एक उर्दू ब्लॉग 'अदबी दुनिया' है, जिसमें पिछले दो वर्षों से उर्दू-हिंदी ऑडियो बुक्स पर उनके यूट्यूब चैनल 'अदबी दुनिया' के ज़रिये काम किया जा रहा है।