जालियों के छेद
इतने बड़े तो हों ही
कि एक ओर की ज़मीन में उगी
घास का दूसरा सिरा
छेद से पार होकर
साँस ले सके
दूजी हवा में

तारों की
इतनी भर रखना ऊँचाई
कि हिबिस्कॅस के फूल गिराते रहें
परागकण, दोनों की ज़मीन पर

ठीक है,
तुम अलग हो
पर ख़ून बहाने के बारे में सोचना भी मत
बल्कि अगर चोटिल दिखे कोई
उस ओर भी
तो देर न करना
रूई का बण्डल और मरहम
उसकी तरफ़ फेंकने में

बहुत कसकर मत बांधना तारों को
यदि खोलना पड़े उन्हें कभी
तो किसी के चोट न लगे
गाँठों की जकड़न सुलझाते हुए

दोनों सरहदों के बीच
‘नो मेंस लैंड’ की बनिस्पत
बनाना ‘एवेरीवंस लैंड’
और बढ़ाते जाना उसका दायरा

धर्म में मत बांधना ईश्वर को
नेकनीयत को मान लेना रब
भेजना सकारात्मक तरंगों के तोहफ़े

बाज़वक़्त
तारबंदी के आरपार
आवाजाही करती रहने पाएँ
सबसे नर्म दुआएँ!

Recommended Book:

Previous articleकौन स्तब्ध है?
Next articleसदाक़त का शिनाख़्ती कार्ड
देवेश पथ सारिया
कवि एवं गद्यकार।पुस्तकें— कविता संग्रह: 'नूह की नाव' (2021) साहित्य अकादेमी, दिल्ली से। कथेतर गद्य: 'छोटी आँखों की पुतलियों में (ताइवान डायरी)’ (2022) शीघ्र प्रकाश्य। अनुवाद: हक़ीक़त के बीच दरार (2021), वरिष्ठ ताइवानी कवि ली मिन-युंग की कविताओं का अनुवाद।उपलब्धि: ताइवान के संस्कृति मंत्रालय की योजना के अंतर्गत 'फाॅरमोसा टीवी' पर कविता पाठ एवं लघु साक्षात्कार। प्रथम कविता संग्रह का प्रकाशन साहित्य अकादेमी की नवोदय योजना के अंतर्गत।अन्य भाषाओं में अनुवाद/प्रकाशन: कविताओं का अनुवाद अंग्रेज़ी, मंदारिन चायनीज़, रूसी, स्पेनिश, बांग्ला, मराठी, पंजाबी और राजस्थानी भाषा-बोलियों में हो चुका है। इन अनुवादों का प्रकाशन लिबर्टी टाइम्स, लिटरेरी ताइवान, ली पोएट्री, यूनाइटेड डेली न्यूज़, बाँग्ला कोबिता, कथेसर, सेतु अंग्रेज़ी, प्रतिमान पंजाबी, भरत वाक्य मराठी और पोयमहंटर पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है।साहित्यिक पत्रिकाओं में प्रकाशन: हंस, नया ज्ञानोदय, वागर्थ, कथादेश, परिकथा, कथाक्रम, पाखी, अकार, आजकल, वर्तमान साहित्य, बनास जन, मधुमती, बहुमत, अहा! ज़िन्दगी, कादंबिनी, समयांतर, समावर्तन, अक्षरा, बया, उद्भावना, जनपथ, नया पथ, कथा आदि।सम्प्रति: ताइवान में खगोल शास्त्र में पोस्ट डाक्टरल शोधार्थी। मूल रूप से राजस्थान के राजगढ़ (अलवर) से सम्बन्ध।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here