“जब तक कोई कार्य कर न लिया जाए, वह असम्भव ही लगता है।”

 

“मेरे देश में हम पहले जेल जाते हैं, और फिर राष्ट्रपति बन जाते हैं।”

 

“यदि आप किसी व्यक्ति से उस भाषा में बात करते हैं, जो वह समझता है, तो बात उसके दिमाग तक जाती है। यदि आप उससे उसकी भाषा में बात करते हैं, तो बात उसके दिल तक पहुँचती है।”

 

“शिक्षा सबसे ताकतवर हथियार है जिससे आप दुनिया बदल सकते हैं।”

 

“बहादुर इंसान वह नहीं है जो डरता नहीं है, बल्कि वह है जो डर को जीत लेता है।”

 

“एक विशाल पहाड़ी चढ़ने के बाद, यही पता चलता है कि अभी चढ़ने के लिए और भी कई पहाड़ियाँ हैं।”

 

“मुझे मेरी सफलताओं से मत आँकिए, मैं कितनी बार गिरा हूँ और फिर ऊपर उठा हूँ, मुझे उससे आँकिए।”

 

“मनुष्य की अच्छाई एक आँच है जो छिप तो सकती है, लेकिन कभी बुझ नहीं सकती।”

 

“जब पानी खौलना शुरू हो जाता है, तो आँच बन्द कर देना बेवकूफी है।”

 

“विद्वेष, विष पीने और यह उम्मीद करने के सामान है कि वह आपके शत्रुओं को मार डालेगा।”

 

(अनुवाद: पुनीत कुसुम)

Previous articleनीच
Next articleकिराये का घर
नेल्सन मंडेला
नेल्सन रोलीह्लला मंडेला (18 जुलाई 1918 – 5 दिसम्बर 2013) दक्षिण अफ्रीका के प्रथम अश्वेत भूतपूर्व राष्ट्रपति थे। रंगभेद विरोधी संघर्ष के कारण उन्होंने 27 वर्ष रॉबेन द्वीप के कारागार में बिताये जहाँ उन्हें कोयला खनिक का काम करना पड़ा था। 1990 में श्वेत सरकार से हुए एक समझौते के बाद उन्होंने नये दक्षिण अफ्रीका का निर्माण किया। वे दक्षिण अफ्रीका एवं समूचे विश्व में रंगभेद का विरोध करने के प्रतीक बन गये।