पंथ होने दो अपरिचित, प्राण रहने दो अकेला!

घेर ले छाया अमा बन
आज कंजल-अश्रुओं में रिमझिमा ले यह घिरा घन
और होंगे नयन सूखे
तिल बुझे औ’ पलक रूखे
आर्द्र चितवन में यहाँ
शत विद्युतों में दीप खेला!

पंथ होने दो अपरिचित, प्राण रहने दो अकेला!

अन्य होंगे चरण हारे
और हैं जो लौटते, दे शूल को संकल्प सारे
दुखव्रती निर्माण उन्मद
यह अमरता नापते पद
बांध देंगे अंक-संसृति
से तिमिर में स्वर्ण बेला!

पंथ होने दो अपरिचित, प्राण रहने दो अकेला!

दूसरी होगी कहानी
शून्य में जिसके मिटे स्वर, धूलि में खोई निशानी
आज जिस पर प्रलय विस्मित
मैं लगाती चल रही नित
मोतियों की हाट औ’
चिनगारियों का एक मेला!

पंथ होने दो अपरिचित, प्राण रहने दो अकेला!

हास का मधु-दूत भेजो
रोष की भ्रू-भंगिमा पतझार को चाहे सहे जो
ले मिलेगा उर अचंचल
वेदना-जल, स्वप्न-शतदल
जान लो वह मिलन एकाकी
विरह में है दुकेला!

पंथ होने दो अपरिचित, प्राण रहने दो अकेला!

यह भी पढ़ें: महादेवी वर्मा का रेखाचित्र ‘ठकुरी बाबा’

Link to buy the book:

Deepshikha - Mahadevi Verma

Previous articleप्रभात रंजन कृत ‘पालतू बोहेमियन – मनोहर श्याम जोशी की स्मृति कथा’
Next articleमेरा लाल रंग
महादेवी वर्मा
महादेवी वर्मा (२६ मार्च १९०७ — ११ सितंबर १९८७) हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक मानी जाती हैं। आधुनिक हिन्दी की सबसे सशक्त कवयित्रियों में से एक होने के कारण उन्हें आधुनिक मीरा के नाम से भी जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here