लोग
रौशनी से डरते हैं
सच से कतराते हैं
टेसू कहाँ फूलें?

देह
देह के आ जाने को डरती है
कोहबर घर से कतराती है
गुलाब कहाँ उगें?

गीत के पोखर
आदमी से डरते हैं
अपनी ही मेंड़ से कतराते हैं
कमल कहाँ झूमें?

आओ
जुगनू की छाँव में
प्यार करें और अलग हो जाएँ
एक बड़ी लड़ाई
छिड़ने वाली है!

रामनरेश पाठक की कविता 'महुए के पीछे से झाँका चाँद'

Recommended Book:

Previous articleअमृता प्रीतम – ‘अक्षरों के साये’
Next articleआमादगी
रामनरेश पाठक
रामनरेश पाठक (1929-1999) हिन्दी के कवि व नवगीतकार हैं. उनके प्रमुख कविता संग्रह 'अपूर्वा', 'शहर छोड़ते हुए' और 'मैं अथर्व हूँ' हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here