निकानोर पार्रा चिलियन कवि हैं। प्रस्तुत कविताओं का हिन्दी में अनुवाद देवेश पथ सारिया ने किया है। कविताएँ लोगोज़ जर्नल पर उपलब्ध लिज़ वर्नर के अंग्रेज़ी अनुवाद पर आधारित हैं।

कुछ वैसा ही

पार्रा हँसता है जैसे
उसे नरक की सज़ा मिली हो
पर कवि कब नहीं हँसते थे?
कम-से-कम वह अपना हँसना स्वीकारता है

कवि वर्षों गुज़ार देते हैं
या कम-से-कम प्रतीत होते हैं गुज़ारते हुए
बिना किसी परिकल्पना के
जैसे सब कुछ घटित हो रहा अपने आप

अब पार्रा रोता है
भूलकर कि वह एक प्रतिकवि है

तनाव मत लो
कोई नहीं पढ़ता आजकल कविताएँ
अच्छी या बुरी, कैसी भी

चार कमियों के लिए मेरी ओलिफ़िया मुझे कभी माफ़ नहीं करेगी—
उम्रदराज़
तुच्छ
साम्यवादी
और साहित्य का राष्ट्रीय पुरस्कार

<मेरा परिवार शायद तुम्हें माफ़ कर भी दे
पहली तीन कमियों के लिए
पर चौथी के लिए हरगिज़ नहीं>

मेरी लाश और मेरी
परस्पर समझ बड़ी अद्भुत है
मेरी लाश पूछती है: क्या तुम ईश्वर में यक़ीन रखते हो?
और मैं दिल खोलकर मना करता हूँ
मेरी लाश पूछती है: क्या तुम सरकार में यक़ीन रखते हो?
और मैं हथौड़ी और दराँत से जवाब देता हूँ
मेरी लाश पूछती है: क्या तुम पुलिस में यक़ीन रखते हो?
और मैं उसके मुँह पर मुक्का जड़ देता हूँ
तब वह ताबूत से उठ खड़ी होती है
और हम बाहों-में-बाहें डाल वेदी की तरफ़ जाते हैं

गृह कार्य
एक साॅनेट बनाओ
जो निम्नांकित पंचपदी पद्य से शुरू होती हो—
मैं तुमसे पहले मरना चाहता हूँ
और जो समाप्त होती हो इस पर—
मैं चाहूँगा कि पहले तुम मर जाओ

तुम जानते हो क्या हुआ
जब मैं घुटनों पर था
सलीब के सामने
ईसा के घावों को देखता हुआ?

वह मुझे देख मुस्कुराया और आँख मारी उसने!

पहले मैं सोचता था कि वह कभी नहीं‌ हँसता:
पर हाँ, अब मुझे यक़ीन हो गया है

एक घिसा हुआ बूढ़ा
फेंकता है लाल कारनेशन के फूल
अपनी प्यारी माँ के ताबूत पर

तुम सुन क्या रहे हो, सज्जनों और देवियों—
एक बूढ़ा शराबी
लाल कारनेशन के रिबन
बम की तरह फेंक रहा है
अपनी माँ के ताबूत पर

मैंने धर्म के लिए खेलों को छोड़ा
(मैं हर रविवार प्रार्थना सभा में जाता था)
मैंने धर्म को छोड़ा कला के लिए
कला को गणितीय विज्ञान के लिए

छोड़ता रहा अंततः आलोक प्राप्ति तक

और अब मैं बस गुज़रता हुआ कोई हूँ
जिसका सम्पूर्ण या अंशों में कोई विश्वास नहीं

किसी राष्ट्रपति की मूर्ति बचेगी नहीं

उन सटीक कबूतरों से
क्लारा सैंडोवल हमसे कहती थी—

वे कबूतर जानते हैं कि वे क्या कर रहे हैं!

पेरुमल मुरुगन की कविताएँ

Book by Nicanor Parra:

Previous articleकिताब अंश: ‘अपने ख़ुद के शब्दों में… लता मंगेशकर’
Next articleबड़ी बात नहीं होती
देवेश पथ सारिया
प्राथमिक तौर पर कवि। गद्य लेखन में भी सक्रियता।पुस्तकें: 'हक़ीक़त के बीच दरार' (2021, वरिष्ठ ताइवानी कवि ली मिन-युंग के कविता संग्रह का मेरे द्वारा किया गया हिंदी अनुवाद) प्रथम कविता संकलन एवं ताइवान के अनुभवों पर आधारित गद्य की पुस्तक शीघ्र प्रकाश्य।अन्य भाषाओं में प्रकाशन: मेरी कविताओं का अनुवाद अंग्रेज़ी, मंदारिन चायनीज़, रूसी, स्पेनिश, पंजाबी, बांग्ला, और राजस्थानी भाषा-बोलियों में हो चुका है। मेरी रचनाओं के ये अनुवाद यूनाइटेड डेली न्यूज़, लिबर्टी टाइम्स, लिटरेरी ताइवान आदि पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं।साहित्यिक पत्रिकाओं में प्रकाशन: हंस, नया ज्ञानोदय, वागर्थ, कथादेश, कथाक्रम, परिकथा, पाखी, आजकल, बनास जन, मधुमती, कादंबिनी, समयांतर, समावर्तन, जनपथ, नया पथ, कथा, साखी, अकार, आधारशिला, बया, उद्भावना, दोआबा, बहुमत, परिंदे, प्रगतिशील वसुधा, शुक्रवार साहित्यिक वार्षिकी, कविता बिहान, साहित्य अमृत, शिवना साहित्यिकी, गाँव के लोग, कृति ओर, ककसाड़, अक्षर पर्व, निकट, मंतव्य, गगनांचल, मुक्तांचल, उदिता, उम्मीद, विश्वगाथा, रेतपथ, अनुगूँज, प्राची, कला समय, प्रेरणा अंशु, पुष्पगंधा आदि ।समाचार पत्रों में प्रकाशन: राजस्थान पत्रिका, दैनिक भास्कर, प्रभात ख़बर, दि सन्डे पोस्ट।वेब प्रकाशन: सदानीरा, जानकीपुल, पोषम पा, लल्लनटॉप, हिन्दीनेस्ट, हिंदवी, कविता कोश, इंद्रधनुष, अनुनाद, बिजूका, पहली बार, समकालीन जनमत, मीमांसा, शब्दांकन, अविसद, कारवां, हमारा मोर्चा, साहित्यिकी, द साहित्यग्राम, लिटरेचर पॉइंट, अथाई, हिन्दीनामा।सम्मान: प्रभाकर प्रकाशन, दिल्ली द्वारा आयोजित लघुकथा प्रतियोगिता में प्रथम स्थान (2021)संप्रति ताइवान में पोस्ट डाॅक्टरल शोधार्थी। मूल रूप से राजस्थान के राजगढ़ (अलवर) से संबंध।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here